Keep these 5 things in mind while using the cooker

23.04.2022 – कूकर को इस्तेमाल करते समय रखें इन 5 बातों का ध्यान.  खाना बनाने के बर्तनों में से प्रेशर कूकर सबसे महत्वपूर्ण बर्तन है, जिसका ढक्कन बंद करने के बाद आपको न तो चम्मच हिलाने की जरूरत पड़ती है और न ही बार-बार यह देखना पड़ता है कि खाना पका या नहीं। बस सीटी के हिसाब से अंदाजा लग जाता है कि खाना तैयार है।

हालांकि इसके साथ भी कुछ समस्याएं व दुविधाएं रहती ही हैं। क्या आपको आपके कूकर का सही इस्तेमाल करना आता है। अगर नहीं तो हम आपकी मुश्किल आसान कर देते हैं और आपको बताते हैं कूकर के इस्तेमाल का सही तरीका।कूकर को जबरदस्ती न खोलेंप्रेशर कूकर में खाना पकाते समय इसमें भाप बन जाता है। जब गैस को बंद किया जाता है उसके बाद भी कुछ देर तक भाप कूकर में ही रहती है लेकिन कई लोग इसमें से प्रेशर निकलने का इंतजार नहीं करते और इसे जबरदस्ती खोलने की कोशिश करते हैं जिससे कई बार कूकर फट सकता है। ऐसे में हमेशा अच्छे से भाप निकलने के बाद ही इसे खोंले।

कूकर से पानी बाहर आना कई बार ऐसा होता है कि प्रेशर कूकर से पानी बाहर निकल आता है और यह इतना गर्म होता है कि शरीर पर पड़े इसके छींटों से त्वचा लाल हो जाती है। इसकी वजह प्रेशर कूकर में पानी की मात्रा का अनुपात नहीं होना होता है। खाने की तुलना में पानी ज्यादा हो तो कूकर से पानी बाहर निकलता है। ऐसा करने से खाना भी स्वादहीन हो जाता है। इससे बचने के लिए पानी की मात्रा का सही अंदाजा लगाना सीखें।प्रेशर कूकर में दरारकूकर जब काफी पुराना हो जाता है तो उसमें दरारें या गढ्ढे पड़ जाते हैं जिसे इस्तेमाल करने से नुकसान हो सकता है।

इसके लिए हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि कूकर अच्छी तरह साफ हो और उसमें कोई दरार न हो।हर चीज कूकर में उबालने की नहीं होतीकई लोग हर चीज प्रेशर कूकर में ही उबालते हैं। जबकि हर चीज का अपना रूप और पकने का अपना तरीका होता है।

कूकर में अनाज और कुछ सब्जियों को तो उबाला जा सकता है, लेकिन हर चीज को नहीं।बंद करने का तरीकाकूकर को हमेशा सही तरीके से बंद करें जिससे भाप सही तरीके से बन जाए और खाना भी अच्छे से पके।

कई कूकर की रबड़ खराब होती है जिससे उसमें खाना पकाने में बहुत समय लगता है। ऐसे में नया कूकर लें नहीं तो उसकी रबड़ बदलवाएं। (एजेंसी)

*****************************************

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के मायने

इसे भी पढ़ें : संकटकाल में नयी चाल में ढला साहित्य

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.