Hyaluronic acid is beneficial for the skin

19.04.2022 – त्वचा के लिए फायदेमंद है हायलूरोनिक एसिड. अगर आप अपनी त्वचा को खूबसूरत बनाए रखना चाहते हैं तो ऐसे स्किन केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें, जो हायलूरोनिक एसिड से युक्त हो। यह कोई केमिकल नहीं बल्कि एक ऐसा तत्व है, जो त्वचा को प्राकृतिक रूप से स्वस्थ और खूबसूरत बनाए रखने में अहम भूमिका अदा कर सकता है। आइए आज हायलूरोनिक एसिड के फायदे और इससे जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें विस्तार से बताते हैं।

हायलूरोनिक एसिड मूल रूप से एक चीनी अणु है, जो पहले से ही हमारी त्वचा, आंखों और पूरे शरीर में मौजूद होता है। यह मुख्य रूप से त्वचा की मरम्मत करने, त्वचा को हाइड्रेट और मॉइश्चराइज रखने में मदद करता है, लेकिन बढ़ती उम्र के साथ हमारे शरीर में हायलूरोनिक एसिड का उत्पादन कम हो जाता है, इसलिए इसे बाहरी स्त्रोतों से प्राप्त करना पड़ जाता है। आप इसे स्किन केयर प्रोडक्ट्स के जरिए पा सकते हैं। हायलूरोनिक एसिड के फायदेहायलूरोनिक एसिड रूखेपन को दूर करके मॉइश्चराइज करने और समय से पहले त्वचा पर उभरने वाले बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करने में काफी मदद कर सकता है।

इसके अतिरिक्त, यह त्वचा के अनइवेन टेक्चर यानी खुरदरेपन को भी कम कर सकता है, जिससे त्वचा स्मूद नजर आती है और इससे त्वचा का लचीलापन भी बढ़ता है। एक्जिमा और किसी कारणवश त्वचा पर हुई लालिमा के प्रभाव को कम करने में भी हायलूरोनिक एसिड मदद कर सकता है। हायलूरोनिक एसिड के नुकसानआप चाहें हायलूरोनिक एसिड से युक्त कोई भी प्रोडक्ट लगाने वाले हो, उससे पहले पेच टेस्ट करें क्योंकि यह जरूरी नहीं है कि वह प्रोडक्ट आपकी त्वचा को सूट ही करें।

अगर आप हायलूरोनिक एसिड के सप्लीमेंट्स या फिर इंजेक्शन को चुनते हैं तो इनके इस्तेमाल से जुड़ी सारी जानकारी स्किन केयर एक्सपर्ट से इकट्ठा कर लें क्योंकि इनका गलत इस्तेमाल त्वचा पर लालिमा, सूजन और दर्द पैदा करने कारण बन सकता है। हायलूरोनिक एसिड इस्तेमाल करने का तरीकाआप चाहें स्किन केयर प्रोडक्ट के तौर पर हायलूरोनिक एसिड युक्त क्रीम, जेल या फिर सीरम आदि में से कुछ भी चुनें। इनके इस्तेमाल से पहले चेहरे को धो लें।

इसके बाद चेहरे को तौलिए से सुखाएं, फिर इस पर हायलूरोनिक एसिड की कुछ बूंदें लगाएं और हल्के हाथों से धीरे-धीरे मालिश करें। ध्यान रखें कि त्वचा पर हायलूरोनिक एसिड को रगडऩा नहीं है। यह अपने आप ही त्वचा में अच्छे से अवशोषित हो जाता है। (एजेंसी)

********************************

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के मायने

इसे भी पढ़ें : संकटकाल में नयी चाल में ढला साहित्य

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.