Voting concludes in Parliament for the post of Vice President

*देर शाम तक परिणाम आने की उम्मीद*

नई दिल्ली,06 अगस्त (आरएनएस/FJ)। देश में अगले उपराष्ट्रपति के चुनाव के लिए मतदान शनिवार को संसद भवन में संपन्न हो गया। सुबह 10.00 बजे से लेकर शाम 5.00 बजे तक चले इस मतदान में संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा के सदस्यों ने मतदान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उप राष्ट्रपति चुनाव में मतदान किया। चुनाव परिणाम भी देर शाम तक आने की उम्मीद है।

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को अपना उम्मीदवार बनाया है। संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन ने कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और पूर्व राज्यपाल तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री मार्गरेट अल्वा को अपना उम्मीदवार चुना है। उपराष्ट्रपति चुनाव के निर्वाचक मंडल में दोनों सदनों के सांसद शामिल है। फिलहाल राज्यसभा की 245 सीटों में से आठ सीटें रिक्त है। इसके अलावा तृणमूल कांग्रेस ने उपराष्ट्रपति चुनाव के मतदान में अनुपस्थित रहने का फैसला किया।

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल राजनीतिक दलों के संसद में 441सदस्य हैं। इनमें से 394 भारतीय जनता पार्टी के हैं। राज्यसभा में पांच नामित सदस्यों ने भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार का समर्थन करने का निर्णय लिया। इसके अलावा बीजू जनता दल, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, तेलुगू देशम पार्टी, शिरोमणि अकाली दल, शिवसेना- एकनाथ शिंदे गुट ने भी श्री धनखड़ का समर्थन करने की घोषणा की ।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की उम्मीदवार श्रीमती अल्वा का समर्थन कांग्रेस, द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम, राष्ट्रीय जनता दल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी और वामदलों ने किया। इसके अलावा झारखंड मुक्ति मोर्चा, तेलंगाना राष्ट्र समिति, आम आदमी पार्टी, शिवसेना -उद्धव ठाकरे गुट ने भी श्रीमती अल्वा का समर्थन करने की बात कही ।

*************************************

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना

इसे भी पढ़ें : आबादी पर राजनीति मत कीजिए

इसे भी पढ़ें : भारत में ‘पुलिस राज’ कब खत्म होगा?

इसे भी पढ़ें : प्लास्टिक मुक्त भारत कैसे हो

इसे भी पढ़ें : इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.