Jyotiraditya Scindia announced 3 more airports to be built in Jharkhand

दिल्ली-देवघर के बीच शुरू हुई उड़ान

नई दिल्ली ,30 जुलाई (आरएनएस/FJ)।   दिल्ली और देवघर के बीच आज पहली सीधी उड़ान शुरू होने के बाद अब केंद्र सरकार ने झारखंड में तीन और एयरपोर्ट बनाने का ऐलान किया है। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शनिवार को दिल्ली और देवघर के बीच पहली सीधी उड़ान को हरी झंडी दिखाने के बाद कहा कि सरकार झारखंड में तीन और एयरपोर्ट बनाने पर काम कर रही है।

बजट एयरलाइन इंडिगो दिल्ली और देवघर के बीच दैनिक उड़ानें संचालित करेगी। शनिवार को दिल्ली से देवघर के बीच पहली उड़ान की कप्तानी भाजपा नेता और पूर्व नागरिक उड्डयन मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने की थी।

इंडिगो अपने ए320 नियो, 180-सीटर ट्विन टर्बोफैन इंजन यात्री विमान को इस रूट पर तैनात करेगी। एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, नई सेवा के साथ देवघर से प्रतिदिन 11 प्रस्थान उड़ानें होंगी।

देवघर एयरपोर्ट का निर्माण 400 करोड़ रुपये की लागत से किया गया था, जिससे यह रांची के बाद झारखंड का दूसरा हवाई अड्डा बन गया है।
सिंधिया ने विज्ञप्ति में कहा कि हम झारखंड में तीन और हवाई अड्डों – बोकारो, जमशेदपुर और दुमका पर भी काम कर रहे हैं – इससे झारखंड में हवाई अड्डों की कुल संख्या 5 हो जाएगी। हमने झारखंड को जोडऩे वाले 14 नए मार्गों की घोषणा की है।

14 रूटों में से कोलकाता और दिल्ली से देवघर के लिए उड़ानें शुरू हो गई हैं। आने वाले दिनों में देवघर को रांची और पटना से जोड़ दिया जाएगा।

मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही हम दुमका को रांची और कोलकाता से जोड़ेंगे। बोकारो हवाईअड्डा बनने के बाद इसे पटना और कोलकाता से जोड़ा जाएगा।

उन्होंने कहा कि देवघर में बाबा बैद्यनाथ धाम एक अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्थल है और मुझे यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि मेरे मंत्रालय ने लाखों तीर्थयात्रियों को देवघर जाने में मदद की है।

*************************************

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना

इसे भी पढ़ें : आबादी पर राजनीति मत कीजिए

इसे भी पढ़ें : भारत में ‘पुलिस राज’ कब खत्म होगा?

इसे भी पढ़ें : प्लास्टिक मुक्त भारत कैसे हो

इसे भी पढ़ें : इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के मायने

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.