Do not make these 5 mistakes even in wet hair, otherwise it will be spoiled forever

गीले बालों : यह बात हम सभी जानते है कि हर महिला की ख्वाहिश होती है कि उसके बाल अच्छे, लंबे, मजबूत और खूबसूरत हों। बालों की देखभाल करना आसान काम नहीं है क्योंकि छोटी-मोटी गलतियों की वजह से बाल तेजी से खराब होने लगते है। हेयर एक्सपर्ट्स के अनुसार यदि आप लंबे समय तक अपने बालों को अच्छा रखना चाहती हैं तो गीले बालों में ये काम नहीं करें।भूलकर भी गीले बालों में ब्रश न करें ज्यादातर महिलाओं को लगता है कि बालों को सुलझाने का सबसे आसान तरीके गीले बालों में ब्रश करना है।

जबकि बाल जब गीले होते हैं तो बहुत ज्यादा कमजोर होते हैं और इसमें ब्रश लगाने से ये आसानी से टूटने लगते हैं। गीले बालों का जूड़ा नहीं बाधेगीले बालों का जूड़ा बनाना भले दिखने में अच्छा लगता हो लेकिन ये बालों के लिए बहुत हानिकारक होता है। गीले बाल कमजोर होते हैं ऐसे में जूड़ा बनाने या इन्हें रबर बैंड से बांधने में ये तुरंत टूटने लगते हैं।गीले बालों को ब्लो-ड्राई करना कुछ लोग गीले बालों को जल्दी सुखाने के लिए ब्लो ड्रायर करते हैं।

हमेशा ध्यान रखें कि बाथरूम से निकलते ही ब्लो ड्रायर का इस्तेमाल ना करें। पहले बालों को थोड़ा सुखा लें उसके बाद हल्के गीले बालों में ड्रायर का इस्तेमाल करें। ड्रायर की सेटिंग हमेशा मीडियम पर रखें और धीरे-धीरे हाई पर ले जाएं।भूलकर भी गीले बालों में नहीं सोना चाहिएगीले बालों में भूलकर भी नहीं सोना चाहिए। क्योंकि इससे स्कैल्प के फोलिसेल को नुकसान पहुंचता है। अगर आपने रात में बाल धोया तो इसे पूरी तरह सूखाने के बाद ही बिस्तर पर लेटें।

गीले बालों को हवा में सुखानाकई लोगों को लगता है कि बालों को हवा में सुखाना एक नेचुरल तरीका है जो बालों के लिए अच्छा है। ये लोगों की बहुत बड़ी गलतफहमी है।

हवा में बाल सुखाने से बाल उलझ जाते हैं और कंघी करने पर टूटने लगते है। इसी तरह कभी भी तौलिए से रगड़ कर बालों को नहीं सुखाना चाहिए. इससे भी बाल टूटते हैं। (एजेंसी)

**********************************

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना

इसे भी पढ़ें : आबादी पर राजनीति मत कीजिए

इसे भी पढ़ें : भारत में ‘पुलिस राज’ कब खत्म होगा?

इसे भी पढ़ें : प्लास्टिक मुक्त भारत कैसे हो

इसे भी पढ़ें : इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.