Chief Minister Shri Hemant Soren handed over the appointment letter and a check of Rs.5 lakh to the mother of late Rupesh Pandey.

रांची, 07.04.2022 – दिवंगत रूपेश पांडेय की माता को मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने नियुक्ति पत्र और पांच लाख रुपए का सहायता राशि का चेक सौंपा . मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने दिवंगत रूपेश पांडेय (नईटांड़, बरही, हज़ारीबाग़) की माता श्रीमती उर्मिला देवी को नियुक्ति पत्र और पांच लाख रुपए की सहायता राशि का चेक सौंपा

मुख्यमंत्री ने परिजनों से कहा -रुपेश पांडेय हत्या मामले की हर दृष्टिकोण से हो रही जांच, दोषियों पर होगी कड़ी कार्रवाई
मुख्यमंत्री श्री हेमन्त सोरेन ने आज दिवंगत रूपेश पांडेय (नईटांड़, बरही, हज़ारीबाग़) की माता श्रीमती उर्मिला देवी को नियुक्ति पत्र और पांच लाख रुपए की सहायता राशि का चेक प्रदान किया ।मुख्यमंत्री ने मंत्री श्री बादल द्वारा प्रदत एक लाख रुपए का चेक भी उन्हें सौंपा ।मुख्यमंत्री ने दिवंगत रुपेश के परिजनों से कहा कि दुख की इस घड़ी में आप अकेले नहीं हैं । आपके साथ सरकार खड़ी है। आपकी जो भी समस्या या जरूरत होगी, उसे सरकार हरसंभव पूरा करने की कोशिश करेगी।

जल्द पूरे मामले का होगा,मिलेगा इंसाफ

मुख्यमंत्री ने दिवंगत रूपेश के परिजनो को भरोसा दिलाया कि सरकार के स्तर पर उसकी हत्या की जांच हर दृष्टिकोण से की जा रही है । उसकी हत्या क्यों और कौन इसमें शामिल है ? जल्द ही पूरे मामले का खुलासा होगा । इस हत्याकांड में जो भी दोषी पाए जाएंगे, उनके खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी। आपको हर हाल में इंसाफ मिलेगा ।

इस मौके पर मंत्री श्री चम्पाई सोरेन और श्री बादल, विधायक श्री सुदिव्य कुमार सोनू और श्री उमाशंकर अकेला, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजीव अरुण एक्का, हजारीबाग की उपायुक्त श्रीमती नैंसी सहाय के अलावा दिवंगत रुपेश पांडेय के पिता श्री सिकंदर पांडेय, माता श्रीमती उर्मिला देवी और परिजनों में श्री सुरेंद्र तिवारी, श्री अनिल कुमार पांडेय, श्री झारखंडी पांडेय, श्री नागेंद्र पांडेय, श्रीमती सुवास देवी और श्री बिनोद विश्वकर्मा मौजूद थे।

*****************************

इसे भी पढ़ें : कांग्रेस नेतृत्व से हकीकत यहीं है कि पार्टी नहीं संभल रही है

इसे भी पढ़ें : अफ्सपा को हटाकर केंद्र सरकार ने सराहनीय कदम उठाया है

इसे भी पढ़ें : जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें  : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें  : उनके जीने के अधिकार का हो सम्मान

इसे भी पढ़ें  : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें  : शौचालयों से ही समृद्धि संभव

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.