Case registered against directors of rice mill for fraud of Rs 43.98 crore from Punjab National Bank

एक अप्रैल, 2015 से लेकर 31 मार्च, 2019 के बीच हुआ था फ्राड

नयी दिल्ली,03 अगस्त (आरएनएस/FJ)।केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने पंजाब नेशनल बैंक से लिए गए 43.98 करोड़ रुपये के कर्ज की हेराफेरी करने के आरोप में शाहजहांपुर की एक चावल मिल के मौजूदा व पूर्व निदेशकों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। सीबीआई के अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी।

सीबीआई ने चावल के कारोबार से जुड़ी कंपनी एटारसन ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड के निदेशकों रचिन गुप्ता और सुनील गुप्ता के अलावा पूर्व निदेशक सीमा गुप्ता, कॉर्पोरेट गारंटर मुकेश कुमार शर्मा और अजय कुमार के खिलाफ धोखाधड़ी के सिलसिले में मामला दर्ज किया है। बैंक के साथ यह धोखाधड़ी एक अप्रैल 2015 से लेकर 31 मार्च 2019 के बीच हुई थी।

इस मामले में दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (जो अब पंजाब नेशनल बैंक है) ने 14 सितंबर, 2017 को 40 करोड़ रुपये की नकद कर्ज सीमा और 4.88 करोड़ रुपये की सावधि कर्ज जैसी ऋण सुविधाओं की मंजूरी प्रदान की थी। कंपनी के फोरेंसिक ऑडिट के दौरान यह पाया गया कि केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विभाग ने 20 अक्टूबर 2018 को कंपनी के शाहजहांपुर और बरेली स्थित परिसरों में छापेमारी की थी।

इसमें खुलासा हुआ कि खरीद और बिक्री की रसीदों में “व्यापक अनियमितताएं” थीं और कई फर्जी रसीदें भी मिली थीं।

*************************************

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना

इसे भी पढ़ें : आबादी पर राजनीति मत कीजिए

इसे भी पढ़ें : भारत में ‘पुलिस राज’ कब खत्म होगा?

इसे भी पढ़ें : प्लास्टिक मुक्त भारत कैसे हो

इसे भी पढ़ें : इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के माय

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.