Anand Mahindra opens the doors of his company for Agniveers

नई दिल्ली ,20 जून।आनंद महिंद्रा ने अग्निवीरों के लिए खोले अपनी कंपनी के दरवाजे.  अग्निपथ स्कीम के ऐलान के बाद से ही देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और कई जगह पर हिंसा हो रही है। इस बीच महिंद्रा ग्रुप ने सेना में 4 साल की सेवा के बाद ‘अग्निवीरों’ को नौकरी देने का ऐलान किया है। इसकी जानकारी महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने खुद ट्वीट कर दी।

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन ने ‘अग्निपथ योजना’ को लेकर जारी हिंसा पर दुख जताया है। महिंद्रा ग्रुप ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं की भर्ती के अवसर का स्वागत करता है। आपको बता दें कि सरकार ने अग्निपथ योजना की शुरुआत की है जिसमें देश के युवाओं में सशस्त्र सेनाओं में भर्ती का मौका दिया जाएगा। इस योजना से जुडऩे वाले युवाओं को अग्निवीर का नाम दिया जाएगा। इसमें 4 साल की सेवा के बाद रोजगारको सुनिश्चित करने के प्रयास भी शामिल हैं।

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन ने ट्वीट में कहा, अग्निपथ योजना को लेकर हुई हिंसा से दुखी हूं। जब पिछले साल इस योजना पर विचार किया गया था, तो मैंने कहा था, और मैं दोहराता हूं कि अग्निवीर द्वारा हासिल किया गया अनुशासन और कौशल उन्हें प्रमुख रूप से रोजगार योग्य बना देगा। महिंद्रा समूह ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं की भर्ती के अवसर का स्वागत करता है।

उन्होंने कहा, कारपोरेट सेक्टर में अग्निवीरों के रोजगार की अपार संभावनाएं। लीडरशिप, टीम वर्क और फिजिकल ट्रेनिंग के साथ अग्निवीर इंडस्ट्री को बाजार के लिए तैयार पेशेवर समाधान प्रदान करते सकते हैं, जिसमें संचालन से लेकर प्रशासन और सप्लाई चेन मैनेजमेंट तक का पूरा स्पेक्ट्रम शामिल है।

सरकार ने अग्निवीरों की चिंताओं को दूर करते हुए कई ऐलान किए हैं। देश के अग्निवीरों को मौजूदा सरकारी स्कीम का भरपूर लाभ दिया जाएगा। वित्त मंत्रालय के मुताबिक, मुद्रा लोन स्कीम और स्टैंड अप इंडिया जैसी योजनाएं अग्निवीरों की मदद करेंगी। मौजूदा सरकारी स्कीमें जैसे मुद्रा, स्टैंड अप इंडिया आदि को अग्निवीरों को समर्थन देने के लिए इस्तेमाल किया जाएगा।

सरकार का तर्क है कि फौज के लिए शुरू की गई अग्निपथ योजना से समाज से आसानी से युवा जुड़ सकेंगे। उन्हें आकर्षक वित्तीय पैकेज मिलेगा, सर्टिफिकेट और डिप्लोम देकर उन्हें उच्च शिक्षा का क्रेडिट दिया जाएगा। इस योजना में अनुशासन, स्किल और फिटनेस पर खास फोकस किया जाएगा। इस भर्ती का मापदंड कुछ ऐसा रखा गया है कि साढ़े 17 साल से 21 साल के युवा को नौकरी दी जाएगी। सेवा की अवधि जिसमें ट्रेनिंग भी शामिल है, 4 साल की होगी। संबंधित सेवा अधिनियम और विनियम के तहत अग्निवीरों का चयन किया जाएगा।

चयन की प्रक्रिया पूरे देश में होगी और इसमें सभी वर्ग के युवा नामांकन कर सकेंगे। सरकार के पास सभी अग्निवीरों का सेंट्रलाइज्ड डेटा और रिकॉर्ड होगा।

*****************************************

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के मायने

इसे भी पढ़ें : संकटकाल में नयी चाल में ढला साहित्य

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.