4 BJP MLAs suspended for creating ruckus in Jharkhand Assembly demanding Hemant Soren's resignation

रांची ,02 अगस्त (आरएनएस/FJ)।  झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के इस्तीफे की मांग पर झारखंड विधानसभा में हंगामा कर रहे भाजपा के चार विधायकों को स्पीकर रविंद्र नाथ महतो ने आगामी 4 अगस्त तक के लिए सदन से निलंबित कर दिया है। निलंबित किये गये विधायकों में भानु प्रताप शाही, ढुल्लू महतो, रणधीर सिंह और जेपी पटेल शामिल हैं। मंगलवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा के इन विधायकों ने वेल में पहुंचकर हंगामा करना शुरू कर दिया। वे सीएम हेमंत सोरेन इस्तीफा दो, भ्रष्टाचार करना बंद करो जैसे नारे लगा रहे थे। स्पीकर ने हंगामा कर रहे विधायकों से सदन की गरिमा को बनाये रखने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि आपका यह आचरण न तो सदन की गरिमा के लिए उचित है और न ही आपके लिए। स्पीकर ने उनसे अपनी सीट पर लौटने और अपनी बात नियमपूर्वक रखने की अपील की। इसके बाद भी हंगामा जारी रहा तो स्पीकर ने कहा कि एक ओर आप सीएम का इस्तीफा मांग रहे हैं और दूसरी ओर मेरी भी नहीं सुन रहे हैं। अंतत: उन्होंने चारों विधायकों को आगामी 4 अगस्त तक सदन से निलंबित करने की घोषणा की। इसके साथ ही स्पीकर ने दोपहर 12.30 बजे तक के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।

सदन की कार्यवाही शुरू होने के पहले भी भाजपा के विधायकों ने सीएम हेमंत सोरेन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उनके इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन किया। भाजपा के सभी विधायक अपनी मांगों को लेकर होर्डिंग लेकर विधानसभा के मुख्य द्वार पर बैठकर नारेबाजी करते रहे। भाजपा विधायक दल के सचेतक विरंची नारायण ने कहा कि सीएम हेमंत सोरेन के विधायक प्रतिनिधि जेल में हैं और उनके प्रेस एडवाइजर का ईडी इंतजार कर रही है। राज्य में कोयला, पत्थर और बालू की लूट हो रही है। ऐसे में हेमंत सोरेन को अपने पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।

*******************************************

इसे भी पढ़ें : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना

इसे भी पढ़ें : आबादी पर राजनीति मत कीजिए

इसे भी पढ़ें : भारत में ‘पुलिस राज’ कब खत्म होगा?

इसे भी पढ़ें : प्लास्टिक मुक्त भारत कैसे हो

इसे भी पढ़ें : इलायची की चाय पीने से मिलते हैं ये स्वास्थ्य लाभ

तपती धरती का जिम्मेदार कौन?

मिलावटखोरों को सजा-ए-मौत ही इसका इसका सही जवाब

जल शक्ति अभियान ने प्रत्येक को जल संरक्षण से जोड़ दिया है

इसे भी पढ़ें : भारत और उसके पड़ौसी देश

इसे भी पढ़ें : चुनावी मुद्दा नहीं बनता नदियों का जीना-मरना

इसे भी पढ़ें : *मैरिटल रेप या वैवाहिक दुष्कर्म के सवाल पर अदालत में..

इसे भी पढ़ें : अनोखी आकृतियों से गहराया ब्रह्मांड का रहस्य

इसे भी पढ़ें : आर्द्रभूमि का संरक्षण, गंगा का कायाकल्प

इसे भी पढ़ें : गुणवत्ता की मुफ्त शिक्षा का वादा करें दल

इसे भी पढ़ें : अदालत का सुझाव स्थाई व्यवस्था बने

इसे भी पढ़ें : भारत की जवाबी परमाणु नीति के मायने

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.