Home देवघर सत्संग आश्रम – ठाकुर अंकुलचंद्र द्वारा वर्ष 1946 में स्थापित...

सत्संग आश्रम – ठाकुर अंकुलचंद्र द्वारा वर्ष 1946 में स्थापित पवित्र सत्संग आश्रम है

44
0
SHARE

देवघर झारखण्ड का एक प्रमुख स्थान माना जाता है, यहाँ हर वर्ष लाखों श्रद्धालु तीर्थ करने के लिए आते है | इस क्षेत्र का उल्लेख कई प्राचीन पुराणों में भी मिल चूका है | इस भाग में हम आपको देव नगरी देवघर, सत्संग आश्रम के विषय में बताने जा रहे है |satsang Deogharसत्संग आश्रम   ठाकुर अंकुलचंद्र द्वारा वर्ष 1946 में स्थापित पवित्र सत्संग आश्रम, देवघर का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। भक्त कृषि, शिक्षा, विवाह और इतिहास के चार बुनियादी सिद्धांतों पर आधारित आदर्शों का पालन करते हैं। आश्रम आर्य धर्म का उपदेश करता है। यहां इस परिसर में एक संग्रहालय तथा एक चिड़ियाघर भी है। सत्संग नें आम लोगों के कल्याण के लिए कई धर्मार्थ अस्पतालों और स्कूलों की स्थापना की है। सत्संग सदस्यों के द्वारा प्रकाशन गृहों और एक प्रिंटिंग प्रेस की भी स्थापना की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here