Home jharkhand सरहुल एवं परमात्मा की पूजा दोनों प्रकृति से जुड़ा है – मुख्यमंत्री...

सरहुल एवं परमात्मा की पूजा दोनों प्रकृति से जुड़ा है – मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास

85
0
SHARE

CM addresses a Program at Kanke Sarna Sthal -finaljustice.in CM addresses a Program at Kanke Sarna Sthal -finaljustice.in-1 CM addresses a Program at Kanke Sarna Sthal -finaljustice.in-2 CM addresses a Program at Kanke Sarna Sthal -finaljustice.in-3राँची, झारखण्ड की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत एवं अनेकता में एकता ही झारखण्ड की पहचान है। पर्व-त्योहार संस्कृति के स्तंभ होते हैं। यह हमें आपस में जोड़ने का कार्य करते हैं। सरहुल एवं परमात्मा की पूजा दोनों प्रकृति से जुड़ा है। किसी भी समस्या का एकमात्र समाधान विकास ही है। विकास में सभी का योगदान अहम है। राजनीति विकास की हो, विभाजन की नहीं। उक्त बातें मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने सरना समिति कांके द्वारा सरना स्थल कांके में सरहुल पर्व के पूर्व संध्या पर आयोजित समारोह में कही।
मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड को एक विकसित राज्य बनाने के लिये हम सभी को अपने कर्तव्य को ईमानदारी से निभाना होगा। लोगों की साझेदारी एवं हिस्सेदारी से ही विकास संभव है । योजना बनाओ अभियान में लोगों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। अब योजनाओं को कार्यान्वित करने की बारी है। आपसे अपील है कि अपने बच्चों के खुशहाल जिदंगी के लिये उन्हें शिक्षा अवश्य दें। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का भी नारा हमने दिया है। बेटी के पढ़ने से दो परिवार खुशहाल होता है। उन्हे अवश्य पढ़ायें।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने सरना स्थल की चाहरदीवारी के निर्माण कार्य का शिलान्यास भी किया।
इस अवसर पर सांसद श्री रामटहल चौधरी, कांके विधायक श्री जीतू चरण राम, उपायुक्त श्री मनोज कुमार, सरना समिति कांके के अध्यक्ष श्री रंजीत टोप्पो सहित अन्य आयोजकगण एवं बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here