Home haal_philhaal पेटलावद-हादसा – वेबसाइट पर उपलब्ध होंगे प्रपत्र, नियमित निरीक्षण की हिदायत

पेटलावद-हादसा – वेबसाइट पर उपलब्ध होंगे प्रपत्र, नियमित निरीक्षण की हिदायत

78
0
SHARE

पेटलावद-हादसा-मुख्य सचिव ने की वीडियो कान्फ्रेंसिंग

भोपाल :  मुख्य सचिव श्री अन्टोनी डिसा ने आज प्रदेश के सभी कलेक्टर्स से वीडियो कॉन्फ्रेंस में पेटलावद हादसे के सन्दर्भ में आवश्यक सावधानियाँ बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने नियमित निरिक्षण की भी हिदायत दी।

मुख्य सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ़ हिदायत दी है कि भविष्य में ऐसे गंभीर हादसों के लिए कलेक्टर और एसपी भी जिम्मेदार माने जाएंगे। मुख्य सचिव ने आज से ही निरीक्षण अभियान शुरू करने के निर्देश दिए। अभियान आगामी 30 सितम्बर तक निरन्तर संचालित करने को कहा गया। अभियान में सभी लायसेंसियों और उनके स्टाफ का भौतिक सत्यापन किया जाएगा। यह एसडीएम और एसडीओपी द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा। विस्फोटक लायसेंस जारी करने वाली एजेंसी के साथ ही विस्फोटक लायसेंसधारियों के निरीक्षण का संयुक्त दायित्व राजस्व और पुलिस अधिकारियों का रहेगा।

मुख्य सचिव ने कलेक्टर्स से आगामी 5 अक्टूबर तक विस्तृत निरीक्षण प्रतिवेदन भी मांगा है। इसकी प्रति गृह विभाग को भी देने के निर्देश दिए गए। वीडियो कांफ्रेंस में भारत सरकार के विस्फोटक नियंत्रक आगरा को भी विभिन्न श्रेणियों में दिए गए विस्फोटक लायसेंस के नवीनीकरण की जिला दंडाधिकारी को अनिवार्य रूप से जानकारी देने के निर्देश दिए गए।

बताया गया कि मुख्य विस्फोटक नियंत्रक नागपुर की ओर से संचालित वेबसाइट www.peso.gov.in पर विस्फोटक सामग्री के लायसेंसधारियों का संपूर्ण ब्यौरा दर्ज है। भारत सरकार के पेट्रोलियम एंड एक्प्लोसिव सेफ्टी आर्गनाइजेशन द्वारा कार्य को व्यवस्थित स्वरूप देते हुए जिला स्तर पर कलेक्टर्स को यूजर्स नेम और पासवर्ड देकर सभी जानकारी प्राप्त करने की सुविधा भी दी गई है। सभी कलेक्टर और एस पी लॉगिन कर आवश्यक ब्यौरा जान सकते हैं। आवश्यक प्रपत्र भी उपलब्ध होंगे। इस वेबसाइट में पब्लिक डोमेन की व्यवस्था भी है। मुख्य सचिव ने विस्फोटक नियंत्रक को कलेक्टरों द्वारा प्राप्त पत्रों पर तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए।

मुख्य सचिव ने कहा कि पेटलावद में हुई घटना को पूरे प्रदेश में गंभीरता से लेते हुए विस्फोटक लायसेंसधारियों के कार्य पर नजर रखते हुए आवश्यक निरीक्षण किये जाये। कलेक्टर स्तर पर यह सुनिश्चित किया जाए कि लायसेंसधारियों द्वारा नियमों का पालन किया जा रहा है अथवा नहीं। जहाँ गंभीर त्रुटियाँ पाई जाये वहाँ लाइसेंस रदद करने के साथ ही अपराधिक प्रकरण भी दर्ज किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि विभिन्न श्रेणियों में दिये जाने वाले लाइसेंस के पश्चात लायसेंसधारी द्वारा विस्फोटक सामग्री के परिवहन – भंडारण और उपयोग के नियमों को दर -किनार करने वाले लोगों को दंडित भी किया जाए। श्री डिसा ने कहा कि सितंबर माह में संपूर्ण प्रदेश में अनुविभागीय अधिकारी/दंडाधिकारी और अनुविभागीय अधिकारी पुलिस द्वारा भौतिक रूप से किए गए निरीक्षण का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाए। जिन जिलों में अधिक लायसेंसधारी हों वहाँ यह दायित्व तहसीलदार और पुलिस इंस्पेक्टर को दिया जाए। विस्फोटक अधिनियम 1884 एवं विस्‍फोटक पदार्थ अधिनियम 1908 एवं नियम 2008 की धाराओं का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाए।

पुलिस महानिदेशक श्री सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मेगजीन और विस्फोटक लायसेंस की सूची तैयार कर संबंधित थाना प्रभारी को भी प्रतिलिपि दी जाए। समस्त ब्लास्टर्स लायसेंसधारियों द्वारा निर्धारित कोटा के अनुरूप सामग्री के संधारण पर भी निगाह रखी जाए। मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक ने जिलों में मेगजीन के निर्धारित मात्रा से अधिक अथवा कम पाए जाने, दोनों स्थितियों में कार्यवाही के निर्देश दिए। अवैध भंडारण की दशा में तत्काल कड़े कदम उठाने को कहा। कलेक्टर्स को दीपावली के पूर्व फटाखा लायसेंस देते समय दूकानों को आबादी से दूर रखे जाने और अग्नि दुर्घटना से निपटने के पर्याप्त उपाय सुनिश्चित करने को भी कहा गया। दो दुकान के मध्य पर्दे के स्थान पर टिन की शीट के उपयोग और पानी के ड्रम आदि रखे जाने के भी निर्देश दिए गए। आमजन से भी अपने घरों के आसपास किसी विस्फोटक सामग्री के भंडारण की सूचना प्रशासन को दिए जाने की अपेक्षा की गई है।

वीडियो कान्फ्रेंस में सीएनजी वाहनों की फिटनेस , रसोई गैस के गोदाम बस्ती से दूरी पर बनाए जाने और एसिड बिक्री के नियमों के पालन में सख्ती बरतने को कहा गया। कान्फ्रेंस में गृह सचिव श्री डी पी गुप्ता भी उप‍स्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here