Home breaking_news राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के अवसर पर उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में कार्यशाला...

राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के अवसर पर उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में कार्यशाला का आयोजन किया गया

87
0
SHARE

राँची, 24.04.2017 –  राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के अवसर पर राॅची समाहरणालय के कमरा सं॰-207 में उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में उपस्थित लोगों का स्वागत करते हुए उपायुक्त ने कहा कि राष्ट्र निर्माण में पंचायतों की भूमिका क्या हो इसी बात के केन्द्र में आज का दिन मनाया जाता है। झारखण्ड में 2010 के बाद पंचायत चुनाव के बाद पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा गाॅवों के विकास में योगदान दिया जा रहा है जो महत्वपूर्ण है। जितनी भी योजनाएॅ चल रही है चाहें वे मनरेगा की योजना हो, स्वच्छ भारत मिशन या कोई और कार्यक्रम सबके स्वरूप में परिवर्तन आया है एवं लाभुकों के चयन से लेकर योजना के क्रियान्वयन तक हर जगह पंचायत के चयनित प्रतिनिधियों की भूमिका बड़ी है जिससे योजनाएॅ सही तरीके से लोगों तक पहुॅच रही है यह अच्छी बात है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिला परिषद उपाध्यक्षा श्रीमती पार्वती देवी ने कहा कि गाॅधी जी का सपना था स्वच्छ ग्राम का निर्माण हो और गाॅवों का समग्र विकास हो, पंचायत के प्रतिनिधि गाॅधी जी के सपने को साकार करने हेतु गाॅवों में शौचालय निर्माण, प्रधानमंत्री आवास योजना, मनरेगा आदि में अपना सहयोग दे रहे हैं। महिलाओं के उत्थान की योजनाओं को और आगे बढ़ाने की आवष्यकता है। त्रिस्तरीय पंचायत प्रषासन को सामूहिक प्रयास से और अधिक मजबूत करने की आवष्यकता है। मौके पर बाल अधिकार संरक्षण आयोग, झा॰के अध्यक्षा-सह-सदस्य जिला परिषद श्रीमती आरती कुजूर ने पंचायत प्रतिनिधियों के साथ विचार-विमर्ष की पहल हेतु जिला प्रषासन को धन्यवाद देते हुए कहा सरकार भी गंभीरता से प्रयास कर रही है कि शासन का विकेन्द्रीकरण की पूर्णता को लाना जरूरी है। ग्राम सभा को सषक्त करने की आवष्यकता है। सरकार की जितनी भी योजनाएॅ हैं उनमें यदि पंचायत प्रतिनिधियों को शामिल किया जाए तो ये ज्यादा प्रभावी हो सकती है। क्षेत्र में पंचायत प्रतिनिधियों को कार्यक्रमों को शामिल किए जाने की आवष्यकता है। श्रीमती कुजूर ने जिला परिषद को भी और सषक्त बनाने की भी आवष्यकता बतायी तभी गाॅधी जी के विकसित गाॅवों के सपनों को पूरा किया जा सकता है।
उपायुक्त,राॅची ने पंचायत राज दिवस के मौके पर आयोजित कार्यषाला के मुख्य बातों पर भी बिन्दुवार प्रकाष डालते हुए कहा कि विभाग की ओर से कई स्लोगन प्राप्त हुए है जिनकों केन्द्र में रखकर चर्चा करते हुए कुछ संकल्प लेने की आवष्यकता है। संसाधनों की कमी, वित्तीय आयोग से तालमेल, राशि की प्राप्ति, खुले में शौच से मुक्ति, बच्चों एवं महिलाओं का समग्र विकास, सहभागिता, सहमति और सामूहिक प्रयास से कैसे आगे बढ़ा जाए, ग्राम सभा की स्थायी समितियाॅ कैसे ज्यादा सषक्त हो इन बिन्दुओं पर भी उपायुक्त से उपस्थित प्रतिनिधियों को अपने विचार रखने को कहा।
कार्यक्रम में जिला परिषद के कार्यकारी पदाधिकारी श्री महेन्द्र ने राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस की महत्ता, 73वें संविधान संषोधन के बाद ग्राम पंचायतों को दिए गए अधिकारों की जानकारी दी। कार्यक्रम में जिला परिषद के सदस्यों ने भी अपने विचार रखे।
उप विकास आयुक्त,राॅची श्री बीरेन्द्र कुमार सिंह ने कार्यषाला में उपस्थित जनप्रतिनिधियों से पंचायतों को सषक्त करते हुए सरकारी योजनाओं के सफल संचालन हेतु सुझाव मांगे।
आज कि बैठक में एडीएम विधि व्यवस्था, श्री गिरिजाशंकर प्रसाद, जिला योजना पदाधिकारी-सह-विकास शाखा प्रभारी श्री मनमोहन प्रसाद, जिला पंचायतीराज पदाधिकारी श्रीमति श्वेता गुप्ता, के अलावे अन्य पदाधिकारी एवं जिला परिषद के सदस्य उपस्थित थे।

****

(FJB)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here