Home गिरीडीह खंडोली – झारखंड के गिरिडीह में स्थित खंडोली रोमांचकारियों के लिए आकर्षक...

खंडोली – झारखंड के गिरिडीह में स्थित खंडोली रोमांचकारियों के लिए आकर्षक पर्यटक स्थलों में से एक है

159
0
SHARE

गिरिडीह –  झारखंड अपने विभिन्न रोमांचकारी स्थलों के बारे में जाना जाता है जहाँ पर्यटकों को वास्तव में साहसिक गतिविधियों और खेलों के अनुभव के लिए विस्तृत क्षेत्र मिलते हैं। इन गतिविधियों का आनंद गिरिडीह, पारसनाथ, और सतपहाण हिल्स में लिया जा सकता है। गिरिडीह जिला इस तरह की रोमांचकारी गतिविधियों का केंद्र रहा है और पूरे देश के हर कोने से पर्यटकों को आकर्षित करता है। पैराग्लाइडिंग, वाटर स्पोर्ट्स और पैरासेलिंग जैसी कुछ अलग तरह की गतिविधियाँ इस राज्य को लोकप्रिय बना रही हैं। वाटर स्पोर्ट्स गिरिडीह का एक आम मनोरंजन है। जिले के उत्तर पूर्व में 8 किमी की दूरी पर एक जलाशय है जहाँ विभिन्न रोमांचकारी खेल खेले जाते हैं। चिड़ियों के जिज्ञासुओं के लिए विहंगावलोकन, व्यस्त रहने का एक दूसरा तरीका है। रोमांच का सफ़र वाटर स्पोर्ट्स पर आकर ख़तम नहीं हो जाता। हाथी और ऊंट सफारी मनोरंजन के दूसरे साधन हैं। बोटिंग, रॉक-क्लाइम्बिंग, पैरासेलिंग और कयाकिंग जैसी गतिविधियों का भी मजा यहाँ लिया जा सकता है। हॉट एयर बलून की सवारी यहाँ की अन्य रोमांचकारी गतिविधि है, जिसका मजा गिरिडीह में लिया जा सकता है। प्रशिक्षक के द्वारा सही प्रशिक्षण के बाद पर्यटक आकाश की यात्रा कर सकते हैं और प्रकृति का नज़ारा कर सकते हैं।  पैरासेलिंग को हवाई स्पोर्टस माना जाता है। एक पैराशूट जिसे पैरासेल कहा जाता है जीप द्वारा जमीन पर या मोटर गाड़ी से पानी पर एक रस्सी द्वारा खींचा जाता है। खुली हवा में उड़ना वास्तव में एक रोमांचकारी अनुभव है। तो आइये आपको ले चलते है गिरिडीह की सैर पर |

khandoliखंडोली झारखंड के गिरिडीह में स्थित खंडोली रोमांचकारियों के लिए आकर्षक पर्यटक स्थलों में से एक है। गिरिडीह के उत्तर पूर्व में 10 किमी की दूरी पर स्थित खंडोली बाँध एक जलाशय है जो विभिन्न वाटर स्पोर्ट्स और रोमांच को स्थान देता है। पूरी खंडोली साईट विस्तृत रूप से एक घड़ी के टावर और एक पहाड़ी, जिसकी ऊँचाई 600 फीट है से साफ़ दिखाई पड़ती है। यहाँ पक्षियों की असंख्य प्रजातियाँ हैं जिन्हें पक्षियों के शौक़ीन ढूंढ सकते हैं। यहाँ यात्री नौका विहार, पर्वतारोहण, रॉक क्लाइम्बिंग , पैरासेलिंग और हाथी और ऊंट सफारी के अलावा कायाकिंग का मजा भी ले सकते हैं। खंडोली का समीपस्थ रेलवे स्टेशन गिरिडीह है। स्टेशन से बस और टैक्सी उपलब्ध हैं जो कि बाँध के रास्ते के लिए मार्गदर्शन दे सकती हैं। खंडोली हिल की तलहटी में खंडोली गाँव है। गिरिडीह के एक लाख से अधिक निवासियों को इस जलाशय से पानी दिया जा रहा है। इस पहाड़ी का आकार सैंडल की तरह है और इसकी चोटी ज्वालामुखी के शंकु की तरह दिखती है। हिमालय बेल्ट, अफ्रीका, उत्तरी एशिया और ऑस्ट्रेलिया से आए प्रवासी पक्षियों को खंडोली झील के आसपास देखा जाता है। ग्रेट जलकाग, साइबेरियाई बतख, साइबेरियन क्रेन, ब्राह्मिनी शेल्डक और पक्षियों की चालीस ऐसी किस्में यहाँ देखी जा सकती हैं जो यहाँ के उपयुक्त वातावरण में प्रजनन करती हैं। प्रदूषण के कारण यहाँ माइग्रेशन कुछ कम हो गया है। कुछ छोटी चिड़ियाँ और जानवरों को पिंजरे में बंद करके मनोरंजन पार्क में रखा गया है जो 6 एकड़ में फैला हुआ है। पर्यटक आम तौर पर अद्भुत प्रवासी पक्षियों को देखने के लिए सर्दियों के दौरान खंडोली आते हैं। खिलौना गाड़ियाँ और झूलों की सवारी पर्यटकों का मनोरंजन करती हैं। पर्वतारोही रॉक क्लाइम्बिंग, रैपलिंग, रिवर क्रोसिंग और इसी तरह की अन्य चुनौतीपूर्ण गतिविधियों के लिए ग्रेनाईट की चट्टानों पर चढ़ने का प्रयास करते  हैं | खंडोली बाँध पर पानी की कुछ गतिविधियाँ जैसे पैडल बोट, स्पीड बोट और वाटर स्कूटर आदि का भी आनंद उठाया जा सकता है। स्कूबा डाइविंग, कैनोइंग, सेलिंग, रिंगो सवारी, राफ्टिंग, वाटर स्कीइंग और सर्फिंग, जैसी गतिविधियाँ पूरे भारत के मेट्रो शहरों से पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। ये गतिविधियाँ आगे भी झारखंड में पर्यटन को बढ़ावा देती रहेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here