Home हरियाणा हरियाणा सरकार द्वारा चरणबद्घ तरीके से ई-कार्यालय प्रणाली लागू की जा रही...

हरियाणा सरकार द्वारा चरणबद्घ तरीके से ई-कार्यालय प्रणाली लागू की जा रही है ताकि सरकारी कार्यालयों के कार्य को कागजरहित बनाया जा सके

74
0
SHARE

25-मई, 2015 चण्डीगढ़, 25 मई – हरियाणा सरकार द्वारा चरणबद्घ तरीके से ई-कार्यालय प्रणाली लागू की जा रही है ताकि सरकारी कार्यालयों के कार्य को कागजरहित बनाया जा सके। एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रथम चरण में मुख्यमंत्री कार्यालय, औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री, प्रधान सचिव औद्योगिक प्रशिक्षण, निदेशालय औद्योगिक प्रशिक्षण कार्यालय, पंचकूला, कैथल, रोहतक और अम्बाला शहर के राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों (आईटीआई) में ई-कार्यालय प्रणाली लागू होगी। तदोपरांत प्रदेश की सभी आईटीआईस में भी इस आधुनिक प्रणाली को लागू किया जाएगा। ई-कार्यालय प्रणाली छ: महीने के भीतर चालू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सरकारी विभागों में से हरियाणा औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग पहला कागजरहित विभाग बनने के लिए तैयार है। औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के प्रधान सचिव श्री अनिल कुमार दैनिक आधार पर कार्यालय प्रणाली की प्रगति की समीक्षा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि श्री अनिल कुमार का मत है कि औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग में ई-कार्यालय प्रणाली के क्रियान्वयन से विभाग की कार्य प्रणाली में उल्लेखनीय सुधार होगा। प्रवक्ता ने कहा कि ई-कार्यालय प्रणाली के क्रियान्वयन की प्रगति पहले ही अग्रिम स्तर पर है राष्टï्रीय सूचना केन्द्र(एनआईसी) और नेशनल इनफरमेटिकस सेंटर सर्विस इनकारपोरेटिड(एनआईसीएसआई) सॉफ्टवेयर प्रदान कर विभाग और निदेशालय के अधिकारियों को प्रशिक्षण दे रहे हैं। विभाग ने सॉफ्टवेयर की खरीद व विशेषज्ञ के लिए एनआईसीएसआई में 26 लाख रुपये की राशि पहले ही जमा करवा दी है। विभाग में ई-कार्यालय प्रणाली के क्रियान्वयन में एनआईसी और एनआईसीएसआई की महत्वपूर्ण भूमिका है। स्टेट डाटा सैन्टर, हरियाणा ने इस परियोजना के लिए सर्वर उपलब्ध करवाया है। इस परियोजना के पूरी तरह से चालू होने तक एनआईसीएसआई ई-कार्यालय प्रणाली के क्रियान्वयन के लिए प्रोग्रामरस और अन्य तकनीकी स्टाफ प्रदान करेगा। विभाग में 4000 से अधिक कर्मचारी हैं। औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग 143 राजकीय तथा 115 निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से व्यवसायिक और कौशल प्रशिक्षण प्रदान कर रहा है। सरकारी और निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में सीटों की क्षमता 60,000 से अधिक है। विभाग का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में तकनीकी और व्यवसायिक शिक्षा प्रदान करके युवाओं में बेरोजगारी को कम करना और उन्हें औद्योगिक व स्व-रोजगार के लिए कौशल जनशक्ति प्रदान करना भी है। उन्होंने बताया कि ई-कार्यालय प्रणाली के क्रियान्वयन के लिए विभाग ने अपने कर्मचारियों का मास्टर डिटेल और हार्डवेयर डिटेल तैयार कर लिया है। उन्होंने बताया कि विभाग के दो अधिकारी नामत: श्री मनोज सैनी, सहायक निदेशक (तकनीकी)और श्री विशाल सोढ़ी, सहायक निदेशक(तकनीकी) एनआईसीएसआई, नई दिल्ली में आयोजित ई-कार्यालय प्रशासनिक प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। श्री गणेश दत्त, तकनीकी निदेशक, एनआईसी चण्डीगढ़ ने भी इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here