Home breaking_news उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में मीडिया संवाद का आयोजन किया गया

उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में मीडिया संवाद का आयोजन किया गया

55
0
SHARE

राॅची,28.04.2017 – उपायुक्त,राॅची की अध्यक्षता में मीडिया संवाद मत्स्य विभाग के काॅके पार्क, डैम साइड में किया गया। मीडिया संवाद में उपस्थित मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मीडिया संवाद के स्वरूप को थोड़ा बदलते हुए यह प्रयास इस बार किया गया कि जिले में जिस क्षेत्र में सराहनीय कार्य हो रहे है, वहाॅ पहुॅचकर यदि मीडिया संवाद किया जाए तो मीडिया के लोगो के माध्यम से नई योजनाओं और कार्यो की जानकारी मिल सकेगी। इसी कड़ी में आज पहला प्रयास यह कि मत्स्य विभाग द्वारा चलाई जा रही आरएफएफ पद्धति के द्वारा मत्स्य पालन काॅके डैम में पिछले वर्ष इस योजना की शुरूआत हुई थी और नीति आयोग द्वारा भी इस योजना को सराहा गया है।  रिक्राईन फिश फार्मिंग (आरएफएफ) के बारे में उपायुक्त द्वारा बताया गया कि गहरी नदी क्षेत्र जहाॅ गर्मी में भी पानी रहता है वहाॅ कुछ क्षेत्रों को चिन्हित कर उन्ही खास क्षेत्रों में पूरे वर्ष भर आरएफएफ विधि से मछली पालन करने से मछली उत्पादन में सामान्य पद्धति से 40 से 50 गुणा ज्यादा मछली का उत्पादन संभव है। जो मछली पालन से लेकर मछली की बिक्री कर मुनाफा कमा रही है। आरएफएफ विधि से मछली पालन कर लोग आर्थिक रूप से लोग स्वावलंबी बन सकते है।
जिले में चल रही अन्य प्रमुख योजनाओं पर भी प्रकाश डालते हुए उपायुक्त ने बताया कि वर्तमान गर्मी के मौसम में पेयजल के संकट से निपटने के लिए प्रशासन द्वारा पेयजल एवं स्वच्छता विभाग से समन्वय स्थापित कर खराब चापाकलों की मरम्मति जो चापाकल ठीक होने की स्थिति में नहीं है उन्हें बदलवाने का कार्य किया जा रहा है। उपायुक्त ने बताया कि अप्रैल महीने में लगभग 2500-2600 चापाकलों की मरम्मति का काम पूर्ण हो चुका है।
उपायुक्त ने कहा कि इस बार मनरेगा के तहत ही डोभा का निर्माण किया जा रहा है बड़े तालाबों। कौषल विकास के तहत चयनित विद्यार्थियों के प्रशिक्षण के संदर्भ में बताते हुए उपायुक्त ने बताया कि राॅची जिले के लिए 20 सर्विस प्रोवाईडर से कौशल विकास मिशन सोसाईटी,राॅची का करार हो चुका है जो 52 व्यवसायों के लिए लोगों को प्रशिक्षण देगें। यह प्रषिक्षण आवासीय एवं गैर आवासीय दोनों तरह का है। इसके तहत अगले चार महीनों में सुदूर ग्रामीण इलाको के 40 गाॅवों के विद्यार्थियों के कौशल विकास का लक्ष्य है।
स्वच्द भारत मिषन के तहत संभवतः मई महीने में ईटकी प्रखण्ड को खुले में शौच से मुक्त घोषित कर दिया जाएगा। इसके साथ ही वर्ष 2017 में राॅची जिले के 9 प्रखण्डो को ओडीएफ करने का लक्ष्य है जिसके लिए एक लाख शौचालयों का निर्माण किया जाना है। उपायुक्त ने बताया कि खाद्य वितरण में भी नई व्यवस्था लागू की जा रहाी है। किरोसिन तेल पर मिलने वाली सब्सिडी अब सीधे लाभुको के खाते में चली जाएगी। इसके लिए लाभुको को अपना बैंक एकाउंट जिला को उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया है।
मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए उपायुक्त श्री मनोज कुमार ने बताया कि जिले में चल रहें स्कूल चले चलाये अभियान में 11000 बच्चों को चिन्हित कर विद्यालय से जोड़ने का काम चल रहा है। अब कई सरकारी विद्यालयों में केजी (किंडर गार्डेन) क्लास की शुरूआत की जा रही है। इसी प्रकार कल्याण विभाग द्वारा कक्षा 1 से 10 तक के विद्यार्थियों को डीबीटी के माध्यम से छात्रवृति का भुगतान किया जाएगा।
जल-संचयन की आवष्यकता को देखते हुए अब मनरेगा के अन्तर्गत ही डोभा का निर्माण किया जा रहा है। जिले में 180 तालाबों के गहरीकरण का काम भूमि संरक्षण विभाग द्वारा किया जा रहा है। शहरी क्षेत्रों में जलापूर्ति योजना जो चल रही है उन्हे जारी रखने का निदेष दिया गया है। जहाॅ मोटर लगाकर सप्लाई वाटर लोग खींचते है इसे रोकने के लिए बिजली विभाग को भी निर्देश दिए गए हैं।
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत 1 लाख 25 हजार किसानों को आच्छादित करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए सहकारिता विभाग से समन्वय स्थापित किया जा रहा है। उपायुक्त ने बताया कि ठेला-वेन्डर के सिस्टम को खत्म कर दिया गया है। यदि ठेला-वेन्डर चाहे तो जन वितरण प्रणाली के लिए आवेदन दे सकते है। यदि संभव होगा तो उन्हे दुकाने आवंटित की जा सकती है।
मीडिया संवाद के अवसर पर उप निदेषक मत्स्य विभाग ने बताया कि मछली उत्पादन के साथ ही साथ मछली की मांग भी बढ़ रही है। मछली को सुरक्षित रखने के लिए कोल्ड स्टोरेज की भी व्यवस्था की जा रही है।
कार्यक्रम के आरंभ में काॅके डैम मत्स्यजीवी सहयोग समिति के अध्यक्ष, सचिव एवं सदस्यों द्वारा उपायुक्त एवं अन्य पदाधिकारियों को पुष्पगुच्छा देकर स्वागत किया गया। जिला मत्स्य पदाधिकारी,राॅची श्री मनोज कुमार ठाकुर द्वारा स्वागत संबोधन करते हुए रिवराईन फिश फार्मिंग के बारे में विस्तार से जानकारी दी। कार्यक्रम के दौरान मुख्य अनुदेशक मत्स्य किसान प्रशिक्षण केन्द्र,राॅची श्री प्रदीप कुमार ने पावर पाईंट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से आरएफएफ की तकनीक की जानकारी दी। मीडिया-संवाद में उपस्थित पदाधिकारियों ने मीडिया कर्मियों के प्रष्नों के जवाब भी दिए।
इस अवसर पर  उप विकास आयुक्त, राॅची श्री बीरेन्द्र कुमार सिंह, अनुमंडल पदाधिकारी सदर श्री भोर सिंह यादव, अपर जिला दण्डाधिकारी, विधि व्यवस्था श्री गिरिजाशंकर प्रसाद, उप निदेशक, मत्स्य विभाग, उप निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती गीता चौबे, जिला कृषि पदाधिकारी श्री विकास कुमार, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी राॅची श्री मुकूल लकड़ा सहित अन्य पदाधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।

****

(FJB)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here