स्वतंत्रता संग्राम – बुलंद नारों की बुलंद दास्तां

On

बजा बिगुल विद्रोह का, नारों ने भरी हुंकार हिली हुकूमत अंग्रेजों की, जब चले शब्दों के बाण जरूरी नहीं कि भावों को व्यक्त करने के लिए हमेशा शब्दों का इस्तेमाल किया जाए, लेकिन जब बात तीव्र और सशक्त अभिव्यक्ति की हो तो…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – शहीद करतार सिंह सराभा

On

यह आजादी से पूर्व के भारत की एक कहानी है, जब पंजाब का एक बेहद युवा क्रांतिकारी फांसी के तख्‍ते पर भेजे जाने की अपनी बारी की प्रतीक्षा कर रहा था। यह मात्र 19 वर्ष का करतार सिहं सराभा था जो लाहौर…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – स्वतंत्रता की पहली लड़ाई – एक 80 वर्षीय योद्धा की वीरता की कहानी

On

80 वर्ष की हड्डियों में, जगा जोश पुराना था, सभी कहते हैं कुंवर सिंह, बड़ा वीर मरदाना था। यह बात उस समय की है जब 1777 में भारत पर मुगलों का शासन था। यह वही दौर था जब अंग्रेजी हुकूमत व्यवसाय की…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – अमर शहीद महाराणा बख्तावरसिंह

On

मध्यप्रदेश के धार जिले के अमझेरा कस्बे के अमर शहीद महाराणा बख्तावरसिंह को मालवा क्षेत्र में विशेष रूप से नमन किया जाता है। मालवा की धरती पर प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों से मुकाबला करने वाले वे ऐसे नेतृत्वकर्ता थे जिन्होंने अंग्रेजों…

सर सुरेंद्रनाथ बनर्जी – भारत के प्रथम ‘राष्ट्रीय’ नेता की निर्माण यात्रा

On

भारतीय सिविल सेवा के 1869 बैच के यह अधिकारी एक अनुभवी सिविल सेवक के रूप में उभर सकते थे। किंतु 1874 में कमज़ोर आधार पर सेवा से हटाए जाने के बाद उन्होंने अपनी प्राथमिकताएं दोबारा तय कीं। वे सार्वजनिक जीवन में आए।…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – लाला लाजपत राय (1865-1928)

On

प्रसिद्ध तिकड़ी-लाल, बाल, पाल (लाला लाजपतराय, बाल गंगाधर तिलक और बिपिन चंद्र पाल) में से एक लाला लाजपतराय ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ भारत के स्वतंत्रता संग्राम के एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्‍यक्ति थे। उनका जीवन निरंतर गतिविधियों से परिपूर्ण रहा…