स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – मालवा का मंगल पांडे- शहीद कुंवर चैन सिंह

On

देश में जब अंग्रेजी कुशासन का दौर चल रहा था तब उन्हें सीधे.सीधे चुनौती देने एवं ललकारने का साहस मालवा में सीहोर की धरती पर कुंवर चैनसिंह ने दिखाया। उन्होंने अपने साथियों के साथ फिरंगियों से लोहा लिया उन्हें नाको चने चबवाए…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – सीहोर के 356 क्रांतिकारियों की शहादत की कहानी

On

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 45 किलोमीटर दूर स्थित सीहोर में मकर संक्राति का पर्व गुड़, तिल्ली और मिठास के लिए नहीं बल्कि देश की आजादी के संघर्ष में शहीद हुए 356 अनाम शहीदों की शहादत के पर्व के रूप…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – कित्‍तूरु की रानी चेन्‍नम्‍मा

On

इस तथ्‍य की बहुत कम जानकारी है कि अंग्रेजों के विरुद्ध ज्‍यादातर विद्रोह दक्षिण भारत में शुरू हुए। 18वीं सदी के अंत में मद्रास प्रेजीडेंसी में पुली थेवर और वीरापंडी कट्टाबोमन, पल्लियाकर (पॉलीगर), 1799 और 1801 के बीच विद्रोह करने वाले मरुडू…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – जयप्रकाश नारायण – एक विद्रोही

On

जयप्रकाश नारायण आधुनिक भारत के इतिहास में एक अनोखा स्थान रखते हैं क्योंकि वह अकेले ऐसे व्यक्ति हैं जिनको देश के तीन लोकप्रिय आंदोलनों में सक्रिय रूप से भाग लेने का अनोखा गौरव प्राप्त है। उन्होंने न केवल अपने जीवन जोखिम में…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – सुब्रमण्य भारतियार

On

सी. सुब्रमण्य भारतियार तमिलनाडु से एक कवि, स्वतंत्रता सेनानी और समाज सुधारक थे। उन्हें महाकवि भारतियार के नाम से जाना जाता था। महाकवि की सराहनीय उपाधि का अर्थ है, महान कवि। उनकी गिनती भारत के महानतम कवियों में की जाती है। भारत…

स्वतंत्रता आंदोलन के नायक – वी के कृष्ण मेननः पूर्ण स्वराज के पक्षधर

On

वर्ष 1847 से प्रारंभ होकर दो शताब्दियों तक भारत के स्वतंत्रता संग्राम ने लगातार अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़प्रतिज्ञ, अपनी विचारधारा एवं आमजन की भागीदारी और निस्वार्थ जोश जैसे शस्त्रों के साथ संघर्षरत कई शानदार नायक पैदा किये हैं। वे न केवल…