Home jharkhand पंचायतों को हाई स्पीड ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने का काम अगले साल...

पंचायतों को हाई स्पीड ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने का काम अगले साल तक पूरा हो जाएगा – सतेंद्र सिंह

42
0
SHARE

रांची, 24.02.2018 – सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव श्री सतेंद्र सिंह ने कहा कि झारखंड ने आईटी के क्षेत्र में शानदार प्रगति की है। डिजिटल साक्षरता के  मामले में झारखंड देश में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि पंचायतों को हाई स्पीड ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने का काम अगले साल तक पूरा हो जाएगा। जिससे झारखंड के घर घर तक संचार क्रांति पहुंचाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि बीपीओ के क्षेत्र में राज्य में बेहतर करने की संभावनाएं मौजूद हैं। ग्रामीण बीपीओ द्वारा ग्रामीण स्तर पर महिलाओं को रोजगार मुहैया कराने का काम किया जा रहा है। अबतक 5 हाजार लोगों को बीपीओ के माध्यम से रोजगार दिलाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड की यूनिक पॉलिसी के कारण ही आज शहरी क्षेत्र में भी बीपीओ सेंटर खोलने हेतु प्राईवेट कम्पनियाँ आगे आई हैं। श्री सिंह ने कहा कि पीएमजी दिशा कार्यक्रम में झारखण्ड देश में आग्रणी है इस कार्यक्रम के तहत 14 वर्ष से 60 वर्ष के ग्रामीणों को डिजिटल साक्षर बनाने का काम किया जा रहा है। ग्रामीण स्तर पर आईटी क्षेत्र में ग्रामीणों को उनके पंचायत में ही रोजगार मिला है जिससे लोगों का पलायन रूका है और उनकी आय में भी वृद्धि हुई है। वे आज आईटी कानक्लेव 2018 के संबंध में सूचना भवन में आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे।

श्री सतेंद्र सिंह ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी व ई गवर्नेंस विभाग की तरफ से 25 फरवरी को आईटी कानक्लेव 2018 का आयोजन किया जा रहा है। कानक्लेव नेहरू स्टेडियम धुर्वा रांची में होगा। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास करेंगे। कानक्लेव की विशिष्ट अतिथि मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा होंगी। कामन सर्विस सेंटर एसपीवी के सीईओ डॉ दिनेश त्यागी, एसटीपीआई के महानिदेशक श्री ओंकार राय, स्टार्टअप इंडिया फाउंडेशन के अध्यक्ष श्री अनिल छिक्कारा, द इंडिया नेटवर्क के  फाउंडर राहुल नार्वेकर, फेसबुक डिजिटल मार्केटिंग के हेड रजत अरोड़ा सहित आईटी और स्टार्टअप से जुड़े कई दिग्गज कानक्लेव में हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि कॉनक्लेव में आईटी के क्षेत्र में झारखंड के बढ़ते कदम की झलक देखने को मिलेगी। कानक्लेव के दौरान आईटी से जुड़े कई योजनाओं की शुरूआत की जाएगी। उन्होंने कहा कि आईटी के क्षेत्र में यह कार्यक्रम मील का पत्थर साबित होगा। इसमें  करीब  7000  से अधिक लोगों के हिस्सा लेने की संभावना है। जिनमें वीएलईए स्टार्टअप सहित आईटी और आईटीईएस क्षेत्र के लोग शामिल रहेंगे। कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम झारखंड को आईटी हब बनाने की दिशा में सकारात्कम कदम होगा।

प्रेस वार्ता में निदेशक आईटी श्री यूपी साह, एसटीपीआई के महानिदेशक श्री ओंकार राय आदि उपस्थित थे।

****

(FJB)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here