*सिमडेगा के अम्बापानी गांव में स्वच्छ्ता संवाद का आयोजन किया गया

*सिमड़ेगा के अम्बापानी गांव में श्री परमेश्वरन अय्यर सचिव पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार, मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने गांव में घूम-घूम कर शौचालय निर्माण का  अवलोकन किया ।

      सिमडेगा,01.02.2018 – स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के स्वच्छता संकल्प अभियान तहत् सिमडेगा के ठेठईटांगर प्रखण्ड अन्तर्गत जोराम पंचायत के अम्बापानी गांव में स्वच्छता संवाद का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री परमेश्वरन अय्यर, केंद्रीय सचिव पेयजल एवं स्वच्छता ने कहा कि झारखण्ड के ऊर्जावान नेतृत्व एवं उत्साही जनता खास कर महिलाओं के टीम वर्क एवं जज्बे ने मोदी सरकार के स्वच्छ भारत अभियान को साकार करने में जो योग्यदान किया है वह अतुलनीय एवं काविले तारिफ है। सिमडेगा में इस अभियान की सफलता की कहानी को पूरे देश में प्रचार-प्रसार का कार्य हमारा मंत्रालय करेगा। उन्होने बांसजोर प्रखण्ड के कोम्बाकेरा गांव के दमाद रामकुमार लुगून के जज्बे को अनुकरणीय बताते हुए कहा कि अपनी खुद की मेहनत से अपने ससुराल एवं पुरे गांव का शौचालय बनाने में इन्होंने अतुलनीय योगदान दिया है। उन्होने रामकुमार को रियल फिल्म का हीरो बताया। छठी कक्षा में पढ़ने वाली अमुनी डुंगडुंग द्वारा अपने अभिभावक को पत्र लिख कर घर में शौचालय बनाने के लिए प्रेरित करने के लिए उन्हे बधाई दी । उन्होने शौचालय के निर्माण के साथ उसके उपयोग पर बल देते हुए कहा कि शौचालय निर्माण में जिस उत्साह के साथ अपनी भागीदारी निभायी है उसी उत्साह से उसका व्यवहार भी करें। उन्होने यूनिसेफ की एक स्टडी का हवाला देते हुए कहा कि शौचालय के निर्माण एवं उपयोग से एक परिवार अपना सलाना खर्च का लगभग 40 प्रतिशत तक की बचत कर सकता है। 

संवाद समारोह में मुख्य सचिव झारखण्ड सरकार  श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि अम्बापानी गांव में स्वच्छता की दिशा में किये गए कार्य पुरे राज्य के लिए अनुकरणीय है। महिलाओं के द्वारा स्वच्छता के लिए उनका हौसला, उनका जज्बा, कुछ कर गुजरने की इच्छा शक्ति एवं आपलोगों का भरोसा इस पूरे अभियान की सफलता का मूलमंत्र है। उन्होने कहा आप लोगों के इसी हौसला के बल पर पूरे राज्य में खुले में शौच से मुक्त करने में राज्य की परिकल्पना को हम साकार करेंगे। स्वच्छता एक ऐसा पहलू है जो समाज के हर एक व्यक्ति के निजी एवं समाजिक जीवन को प्रभावित करता है। उन्होने स्वस्थ्य समाज के लिए स्वच्छता को बड़ी पुंजी बताते हुए कहा स्वच्छता सुविधाओं का मजबूत एवं सर्वसुलभ होना नितान्त जरूरी है। सरकार नें महिलाओं एवं ग्राम समितियों को अधिकार दिये है, आप अपने अधिकारों को समझे, जाने एवं उसका समाज की बेहतरी के लिए उपयोग करें। समितियों के माध्यम से योजनाओं की निगरानी करें एवं सार्वजनिक हित के लिए योजनाओं को सही तरीके से लागू करायें। सरकार के द्वारा दी जा रही योजनाओं को लागू कराना आपका दायित्व है। 

      सवांद कार्यक्रम में पेयजल स्वच्छता विभाग झारखण्ड सरकार के सचिव श्रीमती अराधना पट्नायक ने कहा कि 26 जनवरी से राज्य में स्वच्छता संवाद की शुरूआत हुई है। पहला अवसर सिमडेगा को दिया गया। क्योंकि सिमडेगा स्वच्छता अभियान में पूरे राज्य में अव्वल है। यहां निर्मित शौचालय में गुणवता का पुरा ख्याल रखा गया है। लोगों की भागीदारी काबिले तारीफ है। इसी जज्बे के साथ आज आपका गांव ओडीएफ हो रहा है। उन्होने कहा महिलाएं इस अभियान की पूंजी है। उन्होंने उपायुक्त की तारीफ करते हुए कहा कि मंजू नाथ जी का नेतृत्व ने यह कर दिखाया। 

सवांद कार्यक्रम में स्वागत भाषण उपायुक्त सिमडेगा मंजूनाथ भजन्त्री ने किया। इसके अतिरिक्त निदेशक स्वच्छ भारत अभियान राजेश कुमार ने भी अपने विचार रखें। 

****

(FJB)

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *