अति गंभीर चक्रवाती तूफान ‘ओखी’ के पश्चात भारतीय नौसेना के परीक्षण और बचाव संचालन कार्य त्वरित गति से चलाए जा रहे हैं

05.12.2017 – दक्षिण पूर्व अरब सागर और एल एवं एम द्वीप में अति गंभीर चक्रवाती तूफान ‘ओखी’ के पश्चात यद्यपि भारतीय नौसेना के परीक्षण और बचाव संचालन कार्य त्वरित गति से चलाए जा रहे हैं। चेन्नई, कोलकाता और त्रिकंड के दक्षिण नौसेना कमांड आईएनएस के सीमावर्ती जहाजों सहित आठ नौसेना जहाज प्रभावित द्वीपों की सहायता के लिए तैनात किए गए हैं। इसके अतिरिक्त पूर्वी नौसेना कमान के लंबी दूरी के पी 81 समुद्री टोही विमान सहित दक्षिणी नौसेना कमान पर सभी विमानों को पूरे दिन के लिए तैनात किया गया था।

      भारतीय नौसेना के जहाज, शारदा और चेन्नई द्वारा मिनिकोय में 3 दिसंबर और कावारत्ती एवं काल्पेनी में 4 दिसंबर को आपदा राहत सामग्री उतारा गया। आईएएस द्वीप रक्षक और नौसेना टुकड़ी मिनिकोय द्वारा स्थानीय प्रशासन को सूखा रसद (चावल, दाल, नमक डिहाइड्रेटिड आलू और प्याज) सहित, पानी, कम्बल, रेन कोट, उपयोग करके फेंक देने वाले कपड़े, मछरदानी और दरियों सहित कुल 4 टन आपदा राहत सामग्री सौंपी गई । कावारत्ती में भारतीय नौसेना के हेलीकॉप्टर आईएनएस द्वीप रक्षक द्वारा बितरा द्वीप के लिए सूखी रसद और खाने के लिए तैयार भोजन की आपदा राहत सामग्री को भेजा गया। नौसेना टुकड़ी मिनिकोय के कर्मचारी स्थानीय आबादी और प्रशासन के साथ सड़कों को साफ करने व स्थानीय आबादी को भोजन और रसद वितरण में सहयोग कर रहे हैं।

      आईएनएस कोलकाता ने बितरा द्वीप से 70 मील की दूरी पर एफवी (मछली पकड़ने वाली नौका) द्वीप क्वीन से नौ व्यक्तियों को बचाया। यह नाव पिछले 15 दिनों से लापता थी। नाविकों को संतोषजनक स्थिति में पाया गया और उनके लिए भोजन, पानी और अन्य आवश्यक वस्तुओं की मांग को जलयान भेजकर पूरा किया गया। नाविकों के अनुरोध पर नाव को दो घंटे के लिए अच्छे मौसम में मार्गरक्षण दिया गया।

      कोच्चि से नौसेना समुद्री किंग हेलीकॉप्टर को कावारत्ती द्वीप पर तैनात किया गया था। हेलीकॉप्टर का प्रयोग व्यक्तियों, सामग्री को द्वीपों के बीच में भेजने में व्यापक रूप से किया गया। इस बीच, आईएनएस जमुना और आईएनएस निरीक्षक द्वारा बचाए गए 11 केरल के मछुआरों को कोच्चि के लिए आईएनएस काल्पेनी द्वारा लगाया गया।

      आईएनएस शारदुल ने मिनिकोय में सभी एचएडीआर सामग्री को उतारा है। यह नौवहन अतिरिक्त एकएआर कार्यों के लिए गोताखोर दल और नौसेना हेलीकॉप्टर से सुसज्जित है। यह राहत सामग्री दो हजार लोगों के लिए सात दिनों तक अंतिम होगा।

      निर्धारित क्षेत्र में परीक्षण और आपदा प्रयासों के समापन पर एचएडीआर सामग्री के साथ यह आईएनएस त्रिकंड अब बितरा द्वीप की ओर बढ़ रहा है। 5 दिसंबर की सुबर इस नौवाहन के द्वीप पर पहुंचने की संभावना है। यह राहत सामग्री स्थिति के सुधरने तक द्वीप वासियों की आवश्यकता पूर्ति करेगी।

      सभी एल एम द्वीप भारतीय नौसेना, नौवाहन और वायुयान द्वारा तेजी से चलाए जा रहे आपदा बचाव और राहत कार्य के क्षेत्र में हैं। एल एवं एम द्वीप समूह में शीघ्र सामान्य स्थिति लाने के लिए भारतीय नौसेना दृढ़संकल्प है।

      भारतीय नौसेना स्थिति सामान्य होने तक परीक्षण और राहत कार्य जारी रखेगी। सभी परीक्षण और राहत कार्य केंद्रीय एजेंसियों के सहयोग से पूरे किए गए।

****

(PIB)

 

 

 

 

 

 

 

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *