जनजातीय भाषाओं की फिल्मों को मिलेगा विशेष प्रोत्साहन – श्री संजय कुमार

सूचना भवन परिसर में एक साथ हुआ दो संथाली फिल्मों ‘अर्जुन’ व ‘सोना-मिरू’ का मुहूर्त

two-santhali-movies-arjun-and-sona-miru-muhurat-done-at-suchna-bhawan-parisar-iprd-jharkhand-finaljustice-in two-santhali-movies-arjun-and-sona-miru-muhurat-done-at-suchna-bhawan-parisar-iprd-jharkhand-finaljustice-in-1रांची, 4-11-2016  मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सह प्रधान सचिव, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग श्री संजय कुमार ने कहा कि झारखण्ड में फिल्म उद्योग तेजी से फलने – फूलने लगा है और यह सब मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास के कुशल नेतृत्व एवं उनकी दूरदर्शिता की वजह से संभव हो रहा है| झारखण्ड फिल्म नीति 2015 के लागू होने के बाद से ही लगातार राज्य में बड़ी संख्या में फिल्म निर्माण के प्रस्ताव प्राप्त हो रहे हैं और कई फिल्मों की शूटिंग भी राज्य के अलग – अलग इलाकों में हो रही है| उन्होंने कहा कि यूं तो झारखण्ड अपनी नैसर्गिक सुन्दरता एवं सरकार की स्पष्ट व सहयोगात्मक नीतियों की वजह से मुम्बई फिल्म जगत के बड़े फिल्मकारों की भी पसंद बना है लेकिन राज्य सरकार की प्राथमिकता स्थानीय एवं जनजातीय भाषाओं की फिल्मों के निर्माण को ज्यादा प्रोत्साहित करने की है|  शुक्रवार को सूचना भवन परिसर में दो संथाली फिल्मों ‘अर्जुन’ एवं ‘सोना-मिरू’ के मुहूर्त समारोह को संबोधित करते हुए श्री संजय कुमार ने ये उदगार व्यक्त किये|

श्री संजय कुमार ने कहा कि राज्य में फिल्म विकास निगम का गठन हो चुका है और राज्य में 50 से ज्यादा फिल्मों के निर्माण का प्रस्ताव प्राप्त हो चूका है| फिल्म निर्माण के प्रस्तावों की समीक्षा के लिए पद्मभूषण अनुपम खेर की अध्यक्षता में झारखण्ड फिल्म तकनीकी सलाहकार समिति का गठन किया गया है| समिति में प्रसिद्ध गायक – अभिनेता एवं सांसद श्री मनोज तिवारी को भी सदस्य बनाया गया है| इसके अतिरिक्त झारखण्ड की लोक कला, संस्कृति, साहित्य, रंगमंच व फिल्म निर्माण से जुड़े कई जाने – पहचाने चेहरे भी इस समिति में शामिल किये गए हैं|

प्रधान सचिव ने फिल्म ‘अर्जुन’ एवं ‘सोना-मिरू’ के निर्माता, निर्देशक, कलाकारों एवं तकनीशियनों को शुभकामनाएं दीं और भरोसा दिलाया कि राज्य सरकार जनजातीय व क्षेत्रीय भाषा में बन रही फिल्मों को विशेष प्रोत्साहन एवं संरक्षण देगी|

इस अवसर पर दोनों संथाली फिल्मों के निर्माता – निर्देशक श्रीमती रीना नूपुर ने बताया कि फिल्म ‘अर्जुन’ दो फरवरी 2017 को रिलीज होगी जबकि ‘सोना – मिरू’ को जून माह में रिलीज किया जाएगा| उन्होंने कहा कि संथाली फिल्मों के लिए एक बड़ा दर्शक वर्ग उपलब्ध है और अगर सरकार का इसी प्रकार प्रोत्साहन मिलता रहा तो जल्दी ही झारखण्ड की जनजातीय व क्षेत्रीय भाषाओं की फ़िल्में मुम्बई फिल्म जगत में निर्मित फिल्मों को टक्कर देती दिखेंगी| उन्होंने मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास के प्रति आभार भी प्रकट किया|

इस अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक श्री अवधेश कुमार पाण्डेय, सहायक निदेशक सैयद राशिद अख्तर, श्री बीरू कुशवाहा, श्री अविनाश कुमार, फिल्म के स्क्रिप्ट राइटर सचिन्द्र हेम्ब्रम, गीतकार रेश्मिका हेम्ब्रम, ब्रह्मदेव कुमार, मार्कुस हांसदा, संगीतकार पीयूष आर्य, अभिनेत्री सोनाली कुमारी, रानी देवगम, सहायक निर्देशक संजय भारती, अनिरुद्ध तिवारी एवं भोला महतो समेत अन्य उपस्थित थे|

(Iprd-Jharkhand)

****

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *