Home breaking_news झारखण्ड निवेश के लिए बेहतरीन विकल्प – श्रीमती राजबाला वर्मा

झारखण्ड निवेश के लिए बेहतरीन विकल्प – श्रीमती राजबाला वर्मा

73
0
SHARE
A

कोलकाता में आयोजित रोड शो में निवेशकों ने दिखाया उत्साह, झारखण्ड सरकार की नई नीतियों को सराहा

A
A
A
A

कोलकाता,  झारखण्ड की मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने कहा कि झारखण्ड निवेश के लिए बेहतरीन विकल्प है क्योंकि यहां राज्य और देश हित के साथ साथ निवेशकों की सुरक्षा और सुविधाओं का भी पर्याप्त ध्यान रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश के सर्वांगीण विकास के लिए केवल बड़े उद्योग ही महत्वपूर्ण नहीं बल्कि मध्यम एवं लघु उद्योग भी बड़ी भूमिका निभाते हैं। झारखण्ड की सरकार इस दृष्टि से सर्व हितकारी नीतियों के साथ सभी प्रकार के उद्योगों को जरूरी सुविधायें पूरी तत्परता से उपलब्ध करा रही है। कोलकाता के होटल ओबेराॅय ग्रान्ड में झारखण्ड में निवेश प्रोत्साहन के लिए आयोजित रोड शो को सम्बोधित करते हुए मुख्य सचिव श्रीमती राजबाला वर्मा ने ये बातें कहीं। इस रोड शो में बड़ी संख्या में उद्यमियों और व्यापारियों ने सहभागिता की। इस कार्यक्रम के दौरान ही मनोरंजन क्षेत्र में सक्रिय कार्निवाल समूह और झारखण्ड सरकार के बीच सहमति प़त्र पर हस्ताक्षर भी हुए। झारखण्ड सरकार की ओर से नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव श्री अरूण कुमार सिंह एवं कार्निवाल समूह की ओर से समूह के प्रबंध निदेशक श्री श्रीकांत बस्सी ने समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किया।
इस अवसर पर मुख्य सचिव श्रीमती वर्मा ने कहा कि अबतक झारखण्ड सरकार ने बंगलुरू, हैदराबाद व दिल्ली में तीन सफल रोड शो किए और इन सभी कार्यक्रमों में उत्साहजनक नतीजे सामने आए हैं। खचाखच भरे सभागार में निवेशकों की बड़ी संख्या में उपस्थिति से उत्साहित मुख्य सचिव ने भरोसा जताया कि कोलकाता रोड शो के भी बेहतर नतीजे सामने आएंगे।
श्रीमती वर्मा ने कहा कि कोलकाता के निवेशक झारखण्ड की खूबियों से भली भांति परिचित हैं। झारखण्ड का एक तिहाई भूभाग वन क्षेत्र से आच्छादित है, प्रकृति ने अद्भुत सौन्दर्य इस प्रदेश को उपहार में दिया है। इन प्राकृतिक अवदानों के बल पर झारखण्ड विकास पथ पर तेजी से अग्रसर है। मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास के कुशल नेतृत्व में राज्य सरकार भारतीय अर्थव्यवस्था को गतिमान करने में झारखण्ड को एक बड़ा और सक्रिय सहभागी बनाने का जी तोड़ प्रयास कर रही है। मुख्यमं़त्री ने अपने इस अभियान में निवेशकों को भी हिस्सेदार बनाया है। इसके लिए राज्य सरकार ने सरल, पारदर्शी और निवेशकों के लिए सुगम नीतियां निर्धारित की हैं। देश ही नहीं अपतिु दुनिया भर में झारखण्ड के नीतिगत सुधारों को सराहा जा रहा है। इसका प्रमाण है कि व्यापार सुगमता सूचकांक में झारखण्ड तीसरे पायदान पर है।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार नए निवेश को प्रोत्साहित करने के साथ साथ मौजूदा उद्यमों को भी पर्याप्त सहयोग और संरक्षण दे रही है। झारखण्ड सरकार द्वारा गठित निवेश प्रोत्साहन बोर्ड, राज्य सरकार का सिंगल विंडो सिस्टम, श्रम सुधार आदि निवेशकों के आकर्षण का केन्द्र बने हैं।
श्रीमती वर्मा ने कहा कि झारखण्ड तीन साल के भीतर पावर हब बनेगा और इस लिहाज से यहां उर्जा के क्षेत्र में निवेश के पर्याप्त अवसर हैं। इसके अलावा रांची को स्मार्ट सिटी के तौर पर विकसित किए जाने से संबंधित परियोजना, देवघर के प्लास्टिक पार्क, रांची के फूड पार्क, रांची के अपेरेल पार्क, आधारभूत संरचना विकास, शिक्षा व कौशल विकास, आईटी आदि क्षेत्रों में भी निवेश के ढेर सारे अवसर उपलब्ध हैं।
इस अवसर पर अपने समापन संबोधन व धन्यवाद ज्ञापन के क्रम में अपर मुख्य सचिव वित्त विभाग श्री अमित खरे ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने केवल दो शब्दों नीति और नीयत का जिक्र कर राज्य सरकार के इरादों और लक्ष्य को स्पष्ट कर दिया है। राज्य सरकार ने अपनी प्राथमिकताएं निर्धारित कर तमाम लक्ष्यों की समयब़द्ध पूर्ति को अनिवार्य बनाया है। नीतियों में पारदर्शिता और निवेशकों के साथ किए गए वायदों के अनुपालन की प्रतिबद्धता राज्य सरकार ने अपने दैनिक कार्य व्यवहार में शामिल किया है। उन्होंने वित्त विभाग के प्रधान की हैसियत से निवेशकों को यह भरोसा दिलाया कि सरकार उनके साथ किए गए हर वादे को पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बड़े उद्यमियों के साथ साथ मध्यम और लघु उद्यमियों का भी स्वागत कर रही है और उन्हें हर प्रकार की सुविधा देने को प्रतिबद्ध है।
रोड शो को संबोधित करते हुए उद्योग विभाग के सचिव श्री सुनील बर्णवाल ने कहा कि झारखण्ड में यू ंतो कई बड़े बदलाव दिख रहे हैं लेकिन पिछले एक साल में जो सबसे बड़ा बदलाव आया है वह है सरकार की निर्णय लेने की शक्ति। सरकार ने दृढ़ निश्चय दिखाते हुए नीतियों का सरलीकरण किया है और इंस्पेक्टर राज का लगभग पूरी तरह खात्मा कर दिया है। उन्होंने कहा कि झारखण्ड का समाज अतिथियों का स्वागत करने का स्वभाव रखता है और इसका सबसे बड़ा प्रमाण है जमशेदजी टाटा द्वारा करीब सौ साल पहले झारखण्ड का चुनाव। प्राकृतिक सम्पदा और लोगों का सरल स्वभाव निवेशकों के लिए बेहतरीन माहौल का निर्माण करता है और मौजूदा सरकार की पारदर्शी और निवेश को प्रोत्साहित करनेवाली नीतियां सोने पर सुहागा का काम कर रही है।
श्री बर्णवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री के कुशल नेतृत्व का कमाल है कि झारखण्ड पूर्वी भारत की सबसे तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्था बन गई है। झारखण्ड प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आकर्षित करनेवाला देश का पांचवां राज्य बन गया है। यह सब इस कारण संभव हुआ है क्योंकि सरकार ने नीतियों का सरलीकरण किया है। केवल एक साल के भीतर 10 नई नीतियों का निर्माण किया गया। प्रभावी सिंगल विंडो सिस्टम विकसित किया गया। झारखण्ड में निवेश के अवसरों का विस्तृत विवरण देते हुए उन्होंने निवेशकों से राज्य में आधारभूत संरचना विकास, शिक्षा एवं कौशल विकास, स्वास्थ्य सुविधा, सूचना तकनीक, शहरी विकास व आवासन, पर्यटन आदि क्षेत्रों में निवेश का आग्रह किया और 16 – 17 फरवरी 2017 को रांची में आयोजित वैश्विक निवेशक सम्मेलन में शामिल होने का आमंत्रण दिया।
इसके पूर्व फिक्की के पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष गौरव स्वरूप ने स्वागत भाषण के क्रम में बदलते बढ़ते झारखण्ड की तस्वीर निवेशकों के समक्ष प्रस्तुत किया।
अपने अनुभव साझा करते हुए कोल इंडिया के अध्यक्ष सुतीर्थ भट्टाचार्य ने न्यूटन के सिद्धांत का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि कोई भी स्थिर वस्तु तभी गतिमान होती है जब कोई शक्ति उसपर लगती है। मुख्यमंत्री को इंगित करते हुए उन्होंने कहा कि झारखण्ड के विकास को गतिमान करनेवाली वह शक्ति आज हमारे बीच बैठी हुई है। उन्होंने अपने साथ जुड़े दो मामलों का जिक्र करते हुए कहा कि दोनों मामलों में उन्हें सरकार की ओर से कुछ मिनटों में ही नतीजे मिले जो झारखण्ड की सरकार की बदलती कार्यप्रणाली का द्योतक है।
इस कार्यक्रम को आईटीसी लिमिटेड के सीओओ संजीव पूरी, बंधन बैंेक के एमडी चन्द्रशेखर घोष और सेन्चुरी प्लाईबोर्ड के एमडी सज्जन भजनका ने भी सम्बोधित किया और अपने अनुभव बांटे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here