पलामू में कई राष्ट्रीय धरोहर है जो इतिहास से मुलाकात कराती है|

पलामू टाइगर रिजर्व –     पलामू टाइगर रिजर्व  झारखंड का इकलौता टाइगर रिजर्व है। इसे भारत की मूल नौ टाइगर रिजर्व के रूप में जाना जाता है। यह रिजर्व लगभग 1,014 वर्ग किमी. के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसका कोर क्षेत्र 414 वर्ग किमी. है और इसका बफर क्षेत्र 600 वर्ग किमी.  के आसपास है।

palamu tiger reserve1इस क्षेत्र में कुछ जंगल भी है जिनमें से रमनदाग, लट्टु और कुजुरूम प्रमुख है। इस रिजर्व को 1973 में स्थापित किया गया था । हालांकि यहां बाघों की संख्या  कम है। 2012 में इस रिजर्व में सिर्फ नर टाइगर ही पाएं जाते थे और मात्र 5 मादा टाइगर थी। पलामू टाइगर रिजर्व को 1947 में वन अधिनियम के तहत एक आरक्षित वन घोषित कर दिया गया था। इससे पहले यह एक बाघ अभ्यारण्य था। टाइगर्स के अलावा पर्यटक यहां आकर हाथी,लियोपार्ड,गौर, सांभर और जंगली कुत्ता  भी देख सकते है। इस जंगल में सुंदर झरने, पहाड़ी ढ़लान,पर्णपाती घास आदि क्षेत्र है जहां पर्यटक सैर के लिए जा सकते है। यहां के कुछ पहाड़ी क्षेत्रों में तुरूह,हुलुक,गुलगुल और नेतरहाट  शामिल है।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *