अपराधियों पर नकेल कसी जाए – मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास

cmjharkhandराँची,दिनांक-18.05.2015  मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने आज प्रोजेक्ट भवन स्थित सभा कक्ष में गृह विभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि दुरूस्त विधि व्यवस्था विकास की पहली प्राथमिकता है। झारखण्ड बढ़ेगा तो देश बढ़ेगा लेकिन यदि विकास नहीं होगा तो लोगों के दिल टूटेंगे, इससे देश भी कमजोर होगा। भ्रष्टाचार और लापरवाही के विरूद्ध पुलिस पदाधिकारियों से अभियान शुरू करने का आह्वान करते हुए उन्होंने कहा कि कार्य में कोई कोताही नहीं करना है तथा किसी भी प्रकार का राजनैतिक दबाव होने की स्थिति में सीधा संवाद स्थापित किया जाए परन्तु अपराध पर कड़ी लगाम लगाने से कदापि नहीं हिचकें।
उन्होंने कहा कि जरूरतमंद लोगों की मदद करने से मानसिक शांति मिलती है और व्यक्ति का पुरूषार्थ चरितार्थ होता है। अपराध का होना पुलिस की वर्दी की बदनामी है। वरीय पुलिस अधिकारी अपने कर्तव्य से पूरे पुलिस महकमे को मिसाल दे सकते हैं। पुलिस बल के हरेक सदस्य के जज्बे को जिंदा रखना वरीय पुलिस पदाधिकारियों का दायित्व बनता है। विधि-व्यवस्था सरकार की पहली प्राथमिकता है अतएव सभी पुलिस अधिकारी आपसी समन्वय और टीमवर्क के साथ सूबे में शांति व्यवस्था को कायम रखने में कोई कसर नहीं छोड़ें।
पुलिस के द्वारा लोगों का विश्वास जीतना बहुत जरूरी है। इसलिए पुलिस को ब्रिटिशकाल की छवि से बाहर आकर लोगों के साथ दोस्ताना रवैया अपनाने की जरूरत है। इससे अपराध नियंत्रण में समाज का सहयोग भी पुलिस के साथ रहेगा। हमारी पुलिस अपराधों का उदभेदन तत्परता से कर रही है परन्तु आवश्यक है कि ऐसे निरोधात्मक उपाय किए जाएं कि अपराध की सम्भावना कमतर हो और अपराधियों पर नकेल कसी जाए। इसके लिए कन्ट्रोल रूम की व्यवस्था चुस्त-दुरूस्त रहे तथा त्वरित कार्रवाई के लिए राज्य की पुलिस चैकस रहे। उन्होंने निदेशित किया कि पुलिस विभाग में सभी पदों पर प्रोन्नति निश्चित समय-सीमा के भीतर दें एवं अच्छे कार्य करने वाले पुलिस कर्मियों को प्रोत्साहित करें। वर्षों से राँची, धनबाद, जमशेदपुर और अन्य स्थानों में जमे पुलिस पदाधिकारियों की सूची उपलब्ध कराने का उन्होंने निदेश दिया। उन्होंने कहा कि 1880 में गठित जैप की गौरवशाली परम्परा को ध्यान में रखते हुए जैप की एक बटालियन को माॅडल बटालियन बनाया जाएगा। होमगार्डस के लिए उन्होंने साफ्टवेयर बनाने का निदेश देते हुए कहा कि उनके चयन और कार्य आवंटन को पारदर्शी बनाया जाए।
बैठक में मुख्य सचिव श्री राजीव गौबा, विकास आयुक्त-सह-अपर मुख्य सचिव श्री आर0एस0पोद्दार, अपर मुख्य सचिव गृह विभाग श्री एन0एन0पाण्डेय, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री संजय कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव श्री सुनील कुमार वर्णवाल, पुलिस महानिदेशक श्री डी0के0पाण्डेय, पुलिस महानिदेशक-सह- महासमादेष्टा गृह रक्षा वाहिनी श्रीमती आशा सिन्हा, अपर पुलिस महानिदेशक श्री कमल नयन चैबे, अपर पुलिस महानिदेशक श्री अनिल पालटा, अपर पुलिस महानिदेशक श्री एस0एन0प्रधान सहित वरीय पुलिस पदाधिकारीगण उपस्थित थे।

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *