बाबा साहेब : एक विश्‍व मानव – ‘आधुनिक भारत के निर्माता’ बाबा साहेब

बाबा साहेब : एक विश्‍व मानव – ‘आधुनिक भारत के निर्माता’ बाबा साहेब

On

भारत बाबा साहेब भीमराव आबेडकर की 126वीं जयन्‍ती मना रहा है; 126 वर्ष पूर्व आज के ही दिन भीम राव का जन्‍म एक छोटे से गांव महू, जो वर्तमान में मध्‍यप्रदेश में है, के पूर्ववर्ती अस्‍पृश्‍य परिवार में हुआ था। वास्‍तव में…

डॉ. हेडगेवार- भारत के परिवर्तन के वास्तुकार

डॉ. हेडगेवार- भारत के परिवर्तन के वास्तुकार

On

यदि हमें किसी ऐसे व्‍यक्तित्‍व का चयन करना हो, जिनके जीवन और संगठनात्‍मक क्षमता ने किसी औसत भारतीय के जीवन को सर्वाधिक प्रभावित किया हो, वह व्‍यक्तित्‍व निर्विवाद रूप से डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार होंगे। नागपुर में 1889 में हिंदू नव वर्ष…

महिलाओं के लिए कार्यस्थल पर समानता

महिलाओं के लिए कार्यस्थल पर समानता

On

*डॉ. साशा रेखी इस वर्ष महिला दिवस का विषय “कार्यस्थल की दुनिया में समानता- वर्ष 2030 तक दुनिया में महिला-पुरुष अनुपात 50-50 करने का लक्ष्य” पर केन्द्रित है। यद्यपि कार्यस्थल की दुनिया एवं माहौल महिलाओं के लिए तेज़ी से बदल रहा है,…

संसदीय समिति की राय, प्रधान न्‍यायाधीश का कार्यकाल हो तय

संसदीय समिति की राय, प्रधान न्‍यायाधीश का कार्यकाल हो तय

On

* अनूप कुमार भटनागर उच्चतर न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति में विलंब के लिये लगातार कार्यपालिका को जिम्मेदार ठहराने और उस पर न्यायपालिका की स्वतंत्रता को प्रभावित करने के लग रहे आरोपों के बीच एक संसदीय समिति ने देश के प्रधान न्यायाधीश और…

एक कदम स्‍वस्‍थ बुढ़ापे की ओर

On

   बढ़ती जीवन प्रत्याशा की वजह से दुनियाभर में बुजुर्गों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। बुढ़ापा आने पर हर व्यक्ति में शारीरिक, सामाजिक, बीमारी संबंधी और मनोवैज्ञानिक रूप से कई बदलाव आते हैं, जबकि उनकी जरूरतों,उनकी स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताएं उतनी…

सरदार पटेल –  सर्वोत्कृष्ट संगठनकर्ता

सरदार पटेल – सर्वोत्कृष्ट संगठनकर्ता

On

करीब 100 साल पहले जून 1916 में गुजरात के अहमदाबाद क्लब में पहली बार आए एक बेहद स्टाइलिश मेहमान के काठीवारी ड्रेस को लेकर गुजरात के ही एक बैरिस्टर ने मज़ाक उड़ाया। नए आए मेहमान ने क्लब के लॉन में मौज़ूद थोड़े-बहुत…