झारखण्ड सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम के तहत दुबई में आयोजित रोड शो में मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने भाग लिया

*झारखंड को हुनरमन्द करने का अर्थ है, विश्व के स्किल्ड मानव संसाधन की आवश्यकताओं को पूरा करना – रघुवर दास

मुख्यमंत्री, झारखण्ड

होटल हयात रीजेंसी, दुबई, 16.12.2018 – वर्तमान परिवेश में झारखंड को हुनरमन्द करने का अर्थ है, विश्व के स्किल्ड मानव संसाधन की आवश्यकताओं को पूरा करना। भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत को सामाजिक और आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए प्रत्येक स्तर पर प्रयास किया है। नए भारत के निर्माण के लिए उन्होंने सबसे पहले भारत के युवाओं को स्किल या हुनरमंद बनाने के लिए अलग से मंत्रालय बनाया है। इसी तरह झारखण्ड में भी न्यू झारखण्ड के निर्माण के तहत राज्य के युवाओं को डिग्री के साथ हुनरमंद बनाने पर जोर दिया गया है। संयुक्त अरब अमीरात में हुनरमंद युवाओं की मांग है। हम यहाँ आकर आपकी अपेक्षाओं को जानने और उसी अनुरूप युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिये प्रतिबद्ध हैं। हम चाहते हैं कि हमारे युवा किसी बिचौलिया के माध्यम से गुमराह न हों तथा उन्हें अच्छे नियोक्ता मिल सके और आसानी से एवं अच्छे सैलरी में रोजगार मिले। मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने यह बात होटल हयात रीजेंसी, क्रीक हाईट्स, दुबई में आयोजित रोड शो में कही।

देश के सबसे तेजी से विकास करने वाले राज्यों में झारखण्ड

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड भारत के सबसे तेजी से विकास करने वाले राज्यों में एक है। पिछले 4 साल में राज्य ने अभूतपूर्व प्रगति की है। आज झारखंड का विकास दर गुजरात के बाद सबसे अधिक है । 2013-14 में झारखण्ड में कृषि विकास -4% थी जो राज्य के किसानों की वजह से पिछले 4 सालों में बढ़कर कृषि विकास दर -4% से +14% हो गई। सरकार किसानों की समृद्धि के लिए कार्य कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की सबसे अच्छी उद्योग और श्रम नीति झारखण्ड की है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में झारखण्ड देश के पहले चार-पांच राज्यों में एक है।

यूएई में भारत के राजदूत श्री नवदीप सूरी ने कहा कि चीन और यू एस के बाद भारत का तीसरा सबसे बड़ा बिजनेस पार्टनर देश यूएई है। पिछले वर्ष भारत से 52 बिलियन डॉलर का बिजनेस हुआ था। 32 बिलियन डॉलर का निर्यात हुआ है जो यू एस के बाद सबसे बड़ा बिजनेस डेस्टिनेशन है। भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 2015 के दौरे के बाद दोनों देशों के सम्बन्धों में व्यापक बदलाव आया है। झारखण्ड राज्य की यह पहल बहुत सराहनीय है। यह झारखण्ड के विकास में एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। यूएई स्किल्ड झारखण्ड के निर्माण में बड़ी भूमिका निभा सकता है।

झारखंड के विकास आयुक्त डॉ डी के तिवारी ने झारखंड को निवेश के लिए अत्यंत उपयुक्त डेस्टिनेशन तथा विश्व स्तर पर स्किल्ड युवाओं के रूप में मानव संसाधन की उपलब्धता के लिए झारखंड को महत्वपूर्ण बताया।

मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल तथा उच्च व तकनीकी शिक्षा तथा कौशल विकास विभाग के सचिव श्री राजेश कुमार शर्मा ने भी सम्बोधित किया। मिशन सोसाईटी के मिशन निदेशक श्री रवि रंजन ने सबका स्वागत किया तथा झारखण्ड कौशल विकास मिशन सोसाईटी के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी श्री अमर झा ने सबके प्रति आभार प्रकट किया।

मुख्यमंत्री के साथ वन टू वन इंटरेक्शन के तहत डीएम हेल्थकेयर, नखील, अल नबूदाह कंस्ट्रक्शन, अल जबेर एलजिईटी इंजीनियरिंग एन्ड कांट्रेक्टिंग, एएसजीसी कांट्रेक्टिंग, एम पी सी हेल्थकेयर, डीयूएलएससीओ, बायर्न आदि कंपनियों के प्रतिनिधियों से वार्ता हुई।

****

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *