आज आप सभी गर्व के साथ कह सकते हैं कि राज्य के गांव-गांव और गली-गली में विकास की गंगा प्रवाहित हो रही है- रघुवर दास, मुख्यमंत्री

राष्ट्रपिता के सपनों का भारत बनाने की दिशा में सरकार काम कर रही है – खादी का बढ़ता प्रचलन, ग्रामीण और कुटीर उद्योग स्थापन, स्वच्छता, नशाबंदी, ग्रामोदय, अंत्योदय की पहल इसके परिचायक

जमशेदपुर, 16.10.2018 – मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि मां भगवती से यही आराधना है कि प्रत्येक झारखंड वासी की मनोकामना पूर्ण करें घर घर में समृद्धि आए और अज्ञानता दूर होकर झारखंड सर्वत्र ज्ञान के प्रकाश का अभ्युदय करे। उन्होंने कहा कि आज के दिन नारी सशक्तिकरण की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए सिलाई प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन इस बात को दर्शाता है कि सरकार महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए कितनी गंभीरता पूर्वक काम कर रही है। उन्होंने कहा कि पूरा ब्रह्मांड और पूरी सृष्टि मातृ शक्ति द्वारा संचालित है। यह शक्ति विभिन्न रूपों में सर्वत्र व्याप्त है। मातृशक्ति सिंह जैसे शक्तिशाली जीव की सवारी करके आती है और यही शक्ति पूरी सृष्टि में प्रवाहित है। यही मातृ शक्ति परिवार का भी पालन पोषण कर रही है। नारी शक्ति के बिना कुटुंब व्यवस्था छिन्न भिन्न हो जाएगी और पारिवारिक व्यवस्था की कल्पना भी नहीं की जा सकती। हमारे देश में नारी शक्ति की पूजा की जाती है। बिरसा नगर के क्षेत्र में महिलाओं का आर्थिक सशक्तीकरण करने और उन्हें स्वावलंबी बनाने की दिशा में यह शुरुआत की गई है। मुख्यमंत्री आज सामुदायिक भवन बिरसानगर जोन नंबर टू बी, जमशेदपुर में झारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड सिलाई प्रशिक्षण केंद्र के उद्घाटन के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की सोच थी कि भारत आजादी के बाद परावलंबन से स्वावलंबन की ओर बढ़े। राष्ट्रपिता के बताए रास्ते पर चलने का काम और उनके सपनों का भारत बनाने का काम देश के प्रधानमंत्री ने किया है और देशवासियों को यह भरोसा दिया कि महात्मा गांधी के सपनों का भारत बनाने के लिए बापू के आदर्शों को देश अमल में ला रहा है। बापू ने देशवासियों से अपील की थी कि अधिक से अधिक खादी का प्रयोग करें, जिससे खादी का प्रचलन बढ़ने के साथ साथ इसके निर्माण में लगे देशवासियों को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्राप्त हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि घरों में खादी की चादर-पर्दे का उपयोग करें, घर में कार्यालय में हर काम में खादी का प्रयोग करने से आवश्यकता पूरी होने के साथ-साथ उसमें लगी महिलाओं, कारीगरों को रोजगार के साधन भी प्राप्त होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी का एक और सपना था कि भारत स्वच्छ बने। प्रधानमंत्री ने 2 अक्टूबर 2014 को देशवासियों का आह्वान किया था कि 2019 में राष्ट्र जब महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मना रहा होगा तब उनके चरणों में हम स्वच्छत भारत अर्पित करेंगे। इस दिशा में झारखंड सरकार ने 2018 में ही स्वच्छ झारखंड बनाने की दिशा में पहल की है। 2014 में जहां झारखंड के 18% घरों में शौचालय थे वहीं आज 99.9% घरों में शौचालय हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 नवंबर को जब राज्य अपनी स्थापना दिवस मनाएगा तब हम देश को यह बताएंगे कि हमने 2018 में ही शत-प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। इसका श्रेय भी महिला शक्ति को जाता है।

झारखंड को स्वच्छ बनाने में भी  महिला शक्ति का असीम योगदान है। राज्य की सहिया, जल सहिया, रानी मिस्त्री ने बढ़-चढ़कर राज्य को स्वच्छ बनाने में अपनी भूमिका सुनिश्चित की है। 60,000 रानी मिस्त्रियों को प्रशिक्षित करके, प्रत्येक शौचालय के लिए प्रोत्साहन राशि देते हुए शौचालय का निर्माण पूर्ण किया गया है। उन्होंने कहा कि झारखंड की महिलाएं काफी मेहनती हैं। यह महिलाएं हमारे राज्य और राष्ट्र की शक्ति बने इसके लिए सरकार प्रयास कर रही है। आजादी के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि देश में रक्षा मंत्रालय और विदेश मंत्रालय महिला शक्ति संभाले हुए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार महिलाओं के स्वाबलंबन हेतु प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है। जेएसएलपीएस के माध्यम से 17 लाख महिलाओं को प्रशिक्षित करके बैंसे उनका टाई अप कराने के बाद यह महिलाएं आज अपनी आजीविका का अर्जन कर रही हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए प्रत्येक जिले में पोल्ट्री फेडरेशन सोसायटी बनाकर इसके माध्यम से उत्पादित अंडों को विद्यालयों और अस्पतालों में आपूर्ति की जाएगी। राज्य के सिलाई प्रशिक्षण केंद्रों से प्रशिक्षण प्राप्त महिलाएं अपनी आजीविका अर्जित कर सकती हैं, और इसके लिए सरकार बाजार उपलब्ध कराएगी। करोड़ों का कपड़ा प्रति स्कूल में बच्चों को देते हैं। खादी ग्राम उद्योग बोर्ड एवं झारक्राफ्ट सारा कपड़ा स्कूलों में सप्लाई करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की हर खेत को पानी और हर हाथ को रोजगार देने की सोच को सार्थक करने के लिए सरकार मिशन और विजन मोड में काम कर रही है। सरकार की सोच है कि समृद्ध राज्य की गोद में गरीबी को समूल नेस्तनाबूत करना है। गरीब मजदूर आज राज्य का मुख्य सेवक है मैंने गरीबी को देखा, और जिया है। ईश्वर ने मुझे जो मौका दिया है कि राज्य के हर घर में खुशहाली लाने का काम करना है, यही जीवन का ध्येय है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा समाज के लिए कोढ़ है। नशे से पूरा परिवार कर्ज में डूब जाता है। आबकारी विभाग को भी सख्त आदेश सरकार ने दिया है। समाज में भी जागरण का काम करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिरसानगर के प्यार, सहयोग और स्नेह के कारण ही एक मजदूर आज मुख्य सेवक बना है। आज आप सभी गर्व के साथ कह सकते हैं कि राज्य के गांव-गांव और गली-गली में विकास की गंगा प्रवाहित हो रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य  से  प्रत्येक विभेद को  हटाने के लिए सरकार काम कर रही है- गांव और शहर का विभेद, सरकारी और निजी स्कूलों अस्पतालों का विभेद। क्योंकि विभेदीकरण समरसता, समग्र विकास  में बाधक है। छोटे-छोटे ग्राम उद्योग का जाल गांव में बिछेगा तो कोई नव युवती-नवयुवक पलायन नहीं करेंगे। झारखंड में काफी रोजगार की संभावनाएं हैं। झारखंड की उन्नत टैक्सटाइल पॉलिसी के कारण यहां पर बड़ी संख्या में निवेशक आकर्षित हो रहे हैं। बांग्लादेश के निवेशक भी प्रभावित होकर अब तक अब झारखंड में निवेश कर रहे हैं और  यूरोपियन देशों में भी हमारे कपड़े की मांग बढ़ रही है। सरकार द्वारा निरंतर हजारों लोगों को प्रशिक्षित कर रोजगार देने का काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड में जंगल, और वन्य क्षेत्र, झाड़ पेड़ बहुतायत में है जिससे यहां शहद उत्पादन की क्षमता अधिक है। झारखंड का मधु खाटी होता है। जहां मधु अधिक है वहां प्रोसेसिंग प्लांट भी बनाया जाएगा। झारखंड के मधु को के लिए पतंजलि में भी बाजार की संभावना तलाशी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज बिजली के बिना विकास की कल्पना नहीं की जा सकती। 2014 में जहां राज्य में 118 ग्रिड होनी चाहिए थी जो कि मात्र 38 थी। मुख्यमंत्री बनने के बाद झारखंड में 80 ग्रिड और 257 सब स्टेशन का पूरे राज्य में काम चल रहा है। 1 वर्ष में झारखंड के सभी 68 लाख परिवारों को 24 * 7 बिजली आपूर्ति होगी। 4 वर्ष में 23 लाख घरों में बिजली पहुंचाने का काम किया गया है। 7 लाख घरों में इसी दिसंबर तक बिजली पहुंच जाएगी। इसके लिए हर माह बिजली विभाग के अधिकारियों और कॉन्ट्रैक्टर के साथ बैठक कर उनके दायित्व तय किये  जाते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्व के इतिहास में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना स्वास्थ्य के क्षेत्र की सबसे बड़ी योजना है और राज्य में 68 लाख परिवारों में से 57 लाख परिवार इससे आच्छादित हैं। स्वास्थ्य योजना को घर-घर तक पहुंचाने का लक्ष्य है। बिरसा मुंडा और तिलका मांझी की धरती से इस महत्त्वाकांक्षी योजना की शुरुआत की गई। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए राज्य सरकार 400 करोड रुपए अतिरिक्त देकर लोगों को सालाना ₹5,00,000/- के स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर रही है। केवल राशन कार्ड देकर योजना का लाभ कोई भी ले सकता है और दवा, जांच म, बेड सहित तमाम सुविधाएं योजना के तहत् नामित किसी भी अस्पताल में मुफ्त में इलाज करा सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कोई भी गरीब से गरीब व्यक्ति भी असहाय नहीं हैं।

मुख्यमंत्री द्वारा प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत् 50 महिलाओं को गैस सिलेंडर रसोई गैस चूल्हा और एलपीजी कनेक्शन प्रदान किया गया।

इस अवसर पर झारखंड राज्य खादी बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ, सीईओ सुमन पाठक, दीपांकर पांडा, सलाहकार योगेश मल्होत्रा, खादी बोर्ड के सदस्य कुलवंत सिंह बंटी, झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष गुरुदेव सिंह राजा, झारखंड राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण, उपायुक्त अमित कुमार तथा अन्य लोग उपस्थित थे।

****

 

 

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *