12 जनवरी 2019 तक 1 लाख युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार – रघुवर दास मुख्यमंत्री

*वस्त्र उद्योग में 20 हजार से ज्यादा युवाओं को झारखण्ड में रोजगार मिला: स्मृति ईरानी, केंद्रीय मंत्री

गुमला/बिशुनपुर, 28.05.2018 – मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि आज युवा समागम हो रहा है। युवा एक लक्ष्य निर्धारित करें। गरीबी को अभिशाप ना समझें। आप युवाओं में अपार शक्ति है। आप ऊर्जा से सराबोर हैं। अपनी उर्जा को सकारात्मक कार्य में लगाएं। राज्य सरकार भी आप के सर्वांगीण विकास एवं आपको हुनरमंद बनाने हेतु लगातार प्रयासरत है। युवाओं को हुनरमंद बनाने, कौशल विकास करने हेतु 700 करोड़ रुपए का उपबंध किया गया है, ताकि डिग्री के साथ-साथ आपको हुनरमंद बनाया जा सके। सिर्फ हमसबों को अपनी सोच बदलनी है। देश, राज्य, समाज और परिवार की परिस्थिति बदलते वक्त नहीं लगेगा। बस गरीबी की विचारधारा से बाहर आकर पूरे आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ें। राज्य सरकार आपके साथ कदम से कदम मिलाने को हमेशा तत्पर है। श्री रघुवर दास आज गुमला के बिशुनपुर में आयोजित युवा समागम के अवसर पर बोल रहे थे।

 मुख्यमंत्री ने गुमला के बिशुनपुर में आयोजित युवा महोत्सव में शामिल हुए। टाना भगत आंदोलन के जनक जतरा टाना भगत स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित किया। मुख्यमंत्री ने खादी ग्रामोद्योग आयोग के स्फूर्ति परियोजना के अंतर्गत लोक सुविधा केंद्र, ONGC द्वारा CSR के तहत वित्त प्रदत सुक्का बिरजिया अस्पताल का उद्घाटन व बिशुनपुर में नवनिर्मित महात्मा गांधी सभागार का लोकार्पण किया।

 मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देना सरकार की प्राथमिकता है। सरकार के 15 विभागों द्वारा युवाओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है। 1 लाख 58 हजार 535 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। उनमें से 51 हजार 308 युवाओं को रोजगार मिल गया। इनमें 49 प्रतिशत युवतियां हैं जबकि 29 प्रतिशत एसटी और 12 प्रतिशत एससी वर्ग के युवक-युवतियां शामिल हैं। वस्त्र उद्योग में सबसे ज्यादा रोजगार राज्य सरकार ने उपलब्ध कराया है। साथ ही यह सुनिश्चित किया है कि रोजगार प्राप्त कर रहे युवाओं को उनकी कार्य क्षमता के अनुरूप 9 हजार 300 रुपये से 17 हजार तक की मासिक आमदनी हो।

मुख्यमंत्री ने बताया कि आने वाले तीन चार माह के अंदर सरकार 25 हजार युवक-युवतियों को रोजगार उपलब्ध कराएगी। 12 जनवरी 2019 तक 1 लाख युवाओं को रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा। राज्य सरकार सिर्फ पढ़े-लिखे युवाओं को हुनरमंद नहीं बनाना चाहती है बल्कि अनपढ़ युवक-युवतियां को भी हुनरमंद बनाया जाएगा, इसके लिए योजना तैयार कर ली गई है। जिले के उपायुक्त को इस संबंध में निर्देश दे दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री जी का भी मानना है कि कौशल विकास के बिना, युवाओं को हुनरमंद बनाए बिना युवाओं के सर्वांगीण विकास की परिकल्पना व्यर्थ है।

श्री रघुवर दास ने कहा कि अगर झारखंड राज्य को आगे बढ़ाना है तो महिलाओं का सशक्तिकरण बेहद जरूरी है। यही वजह है कि जोहार व तेजस्विनी योजना के जरिए महिलाओं को सशक्त किया जा रहा है। आने वाले दिनों में पोल्ट्री फेडरेशन के माध्यम से हर जिले की महिलाओं को जोड़ा जाएगा। स्कूलों में प्रारंभ होने वाले रेडी टू ईट योजना से महिलाओं को जोड़ने की योजना है क्योंकि सरकार का मानना है कि अगर एक महिला सशक्त होगी तो परिवार और समाज भी सशक्त होगा। आदिवासी बहुल क्षेत्र में आदिवासी ग्राम विकास समिति का गठन किया गया है जबकि 50 प्रतिशत से कम आदिवासी बहुल क्षेत्र में ग्राम विकास समिति का गठन किया गया है। इस समिति को संचालित करने की जिम्मेवारी वहां की महिलाओं को दी गई है। उन्होंने ग्रामीणों से अनुरोध किया कि इन विकास समितियों से समन्वय स्थापित कर गांव की योजनाओं को क्रियांवित करने में अपनी भागीदारी निभाएं। अपनी जरुरत के अनुसार योजनाओं का चयन करें राज्य सरकार उस योजना को अमलीजामा पहनाने में आपकी मदद करेगी।

श्री रघुवर दास ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत राज्य के 57 लाख गरीब परिवारों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा दिया जाएगा। ताकि, वे अपनी बीमारी का इलाज वे बेहतर ढंग से सुनिश्चित कर सकें। हमसबों को मिलकर स्वस्थ झारखंड की परिकल्पना को सार्थक करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद भी लगातार आदिवासी, शोषित, दलित, वंचित की अनदेखी हुई है। उनके जीवन में बदलाव परिलक्षित नहीं हुआ। 2014 में केंद्र और राज्य की सरकार ने जो गरीब, आदिवासी, शोषित, दलित और वंचितों के संबंध में न केवल सोचा बल्कि इनके विकास के लिए पहल की है। 

केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने कहा कि 1 माह के अंदर झारखण्ड में निफ्ट की स्थापना की आधारशिला रखी जायेगी। केंद्र सरकार ने राज्य सरकार से समन्वय स्थापित कर राज्य के 20 हजार से ज्यादा युवाओं को वस्त्र उद्योग के क्षेत्र में रोजगार देने का कार्य किया है। प्रधानमंत्री जी ने सत्ता सम्भालते ही गरीब के बच्चों को अपने पैरों पर खड़ा करने उन्हें स्वावलंबन की ओर अग्रसर करने की सोची। केंद्र सरकार की योजनाओं का परिणाम है कि  31 करोड़ जनधन योजना के तहत खाता खोला गया और 80 हजार करोड़ की राशि जमा की गई। आज मुद्रा योजना का लाभ गरीबों को मिल रहा है। 12 करोड़ लोग योजना से लाभान्वित हुए, इसमें 70 प्रतिशत लाभ देश की महिलाओं को मिला। श्रीमती ईरानी ने कहा कि सरकार युवा वर्ग को साथ लेकर कार्य कर रही है। इन युवाओं से हमें ऊर्जा मिलती है और हमें देश के सभी वर्गों के लिए काम करने के इरादे को मजबूती प्राप्त होती है।

केंद्रीय राज्य मंत्री श्री गिरिराज सिंह ने कहा कि देश मजबूत तब होगा जब देश का गांव, गरीब और किसान मजबूत होगा। हम लगातार विकास की श्रृंखला देख रहें हैं। जिसप्रकार सुभाष चंद्र बोस जी ने कहा था तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा। उसी प्रकार प्रधानमंत्री जी का कहना है कि आप उन्हें आशीर्वाद दें वे आपको भारत का स्वर्णिम युग देंगे। 

केंद्रीय राज्य मंत्री श्री सुदर्शन भगत ने कहा कि गुमला को आज कई सौगात मिले हैं। इस पहल से युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। केंद्र और राज्य सरकार गरीबों के कल्याणार्थ कार्य कर रही है। 4 वर्ष के कार्यकाल में गरीबी उन्मूलन हेतु सार्थक प्रयास किये गए। 

कार्यक्रम में कौशल विकास के तहत प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके 40 युवाओं में 10 युवाओं को सांकेतिक तौर पर नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। मधुमक्खी पालन में बेहतर कर रहें समितियों को 50, 80 और 1 लाख का चेक अथितियों ने सौंपा। 

कार्यक्रम में मेयर श्रीमती आशा लकड़ा, गुमला विधायक श्री शिवशंकर उरांव, मांडर विधायिका श्रीमती गंगोत्री कुजूर, विधायक श्री हरेकृष्ण सिंह, पदमश्री श्री अशोक भगत, श्री दत्तात्रेय होसबोले, खादी ग्रामोद्योग बोर्ड के केंद्रीय अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना व अन्य शामिल हुए।

****

(FJB)

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *