*नीति आयोग द्वारा पिछड़े जिलों के विकास के पायदान पर हजारीबाग जिले को मिला 21वां रैंक एवं राज्य में प्रथम स्थान

*शिक्षा और स्वास्थ्य विकास के मूलभूत आधार -मुख्यमंत्री

*नीति आयोग के द्वारा निर्धारित मापदण्डों का शत प्रतिशत अनुपालन करें- मुख्यमंत्री

*रामनवमी पर्व के अवसर पर हजारीबाग ने आपसी सदभाव की मिशाल दी – जयंत सिन्हा – केंद्रीय मंत्री

हजारीबाग, 30.3.2018 –  मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास ने कहा कि नीति आयोग द्वारा पिछड़े जिलों के रूप में चिन्हित जिलों के सर्वाधिक पिछड़े पंचायतों को प्राथमिकता के साथ आगे बढ़ाना है। उन्हें कनेक्टीविटी देनी है। साथ ही शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में सभी मूलभूत सुविधाओं से भी लैस करना है, अन्यथा ऐसे गांव या पंचायत विकास की दौड़ में पीछे ही रह जाएंगे। उन्होंने पदाधिकारियों को निदेश किया कि पिछड़े जिलों के समेकित विकास के लिए नीति आयोग द्वारा तय किए गए मानकों के अनुसार तय समय सीमा के भीतर निर्धारित उद्देश्यों की प्राप्ति होनी चाहिए। हर माह ही नहीं बल्कि हर सप्ताह मॉनिटरिंग करते हुए ऐसे गैप की पहचान कर प्राथमिकता के आधार पर लम्बित रहे कार्यों को पूरा करना संबंधित पदाधिकारियों का समेकित दायित्व है।  मुख्यमंत्री श्री दास आज हजारीबाग परिसदन में वरीय पदाधिकारियों के साथ नीति आयोग के द्वारा पिछड़े जिलों के विकास कार्यों के कार्यान्वयन की समीक्षा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने नीति आयोग द्वारा पिछड़े जिलों के विकास के पायदान पर हजारीबाग जिले को 21वां रैंक मिलने पर उपायुक्त एवं उनकी टीम की सराहना करते हुए कहा कि हजारीबाग जिला को राज्य में प्रथम स्थान मिला है, लेकिन इसे पूरे देश में प्रथम दस रैंकिंग में लाना है। इससे आमजनों को तो लाभ होगा ही साथ ही टीम भावना से काम करने वाले पदाधिकारियों/कर्मचारियों को भी अपने जीवन और सेवा का सार्थकता का अहसास होगा।

मुख्यमंत्री ने शिक्षा एवं स्वास्थ्य को विकास के मूल की संज्ञा देते हुए कहा कि मानव संसाधन की कमी के कारण यदि स्कूलों में पढ़ाई या अस्पतालों में इलाज में दिक्कत हो रही हो तो तत्काल वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में सेवानिवृत सरकारी कर्मियों,चिकित्सक अथवा पढ़े-लिखे बेरोजगार युवाओं का चयन कर उनकी सेवा संविदा के आधार पर ली जाए। उन्होंने कहा कि युवाओं के कौशल विकास एवं सहज अवागमन की सुविधा प्राथमिकता के तौर पर उपलब्ध कराए जाने पर पिछड़े पंचायत या गांव को विकास की मुख्य धारा में लाने में काफी सहुलियत होगी।

श्री दास ने ग्रामीण विकास, पेयजल एवं स्वच्छता, स्वच्छ भारत मिशन एवं ग्रामीण विद्युतीकरण की योजनाओं के कार्यान्वयन की स्थिति प्रतिवेदन की समीक्षा करते हुए लम्बित अथवा विलम्बित योजनाओं को शीघ्र पूरा करने का निदेश दिया । उन्होंने कहा कि नीति आयोग के द्वारा निर्धारित मापदण्डों का शत प्रतिशत अनुपालन करें।

केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री सह स्थानीय सांसद श्री जयंत सिन्हा ने कहा कि अक्षयपात्र फाउंडेशन के द्वारा एक लाख स्कूली बच्चों के लिए मिड्डे मील की योजना हजारीबाग में शीघ्र शुरू की जाएगी। इस हेतु अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का किचेन स्थापित किया जा रहा है। तैयार मिड् डे मील को जल्द ही संबंधित विद्यालयों में पहुंचाया जाना है। जिले के स्कूली छात्रों के लिए यह एक बहुत बड़ी सौगात होगी। श्री सिन्हा ने शांतिपूर्ण रामनवमी एवं हजारीबाग जिले को नीति आयोग द्वारा झारखण्ड में प्रथम रैंकिंग दिए जाने पर अधिकारियों की टीम को बधाई दी।

इस अवसर पर उपायुक्त हजारीबाग श्री रवि शंकर शुक्ला, डीआईजी बोकारो रेंज श्री प्रभात कुमार, पुलिस अधीक्षक श्री अनीश गुप्ता, सदर एसडीएम श्री आदित्य रंजन सहित विभिन्न विभागों के वरीय पदाधिकरीगण उपस्थित थे।

****

(FJB)

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *