अवैध खनन करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा – सुनील कुमार वर्णवाल, खनन सचिव, झारखण्ड

अवैध खनन हर हाल में बंद होगा – सुनील कुमार वर्णवाल,

राँची, 05.10.2017 – खनन सचिव, झारखण्ड खनन सचिव सुनील कुमार वर्णवाल ने दुमका के सूचना भवन सभागार में मीडिया के प्रतिनिधियों के साथ एक प्रेस वार्ता की। प्रेस के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि संताल परगना में अवैध खनन के कई शिकायतें लगातार प्राप्त हो रही है। सरकार अवैध खनन पर गम्भीर है। उन्होंने कहा कि रविवार के दिन संताल परगना के सभी छह जिलों के उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक के साथ अवैध खनन पर बैठक करना राज्य सरकार की गम्भीरता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि हर हाल में अवैध खनन बन्द होगा। मुख्यमंत्री के निदेशानुसार अवैध खनन में लिप्त लोगों पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जायेगी। सभी बालूघाट चाहे वे बन्दोवस्त हो या अबन्दोवस्त हो अगर मशीन का उपयोग करते पाया गया तो मशीन को जब्त कर संबंधित व्यक्ति पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि लगातार ऐसे कई शिकायतें प्राप्त हो रही है कि बालू को वाहन के माध्यम से एक जगह पर संग्रहित कर उन्हें समय समय पर बेचा जाता है ऐसे लोगों के विरूद्ध भी कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि कुछ एक शिकायतें ऐसी भी मिली है कि बंगाल के तरफ से अवैध बालू का उठाव कर झारखण्ड होते हुए अन्य राज्यों तक जाता है। एसे मामलों पर उनके चालान की जांच की जायेगी तथा अवैध बालू को जब्त कर अवैध बालू का दोगुना वसूला जायेगा। उन्होंने कहा कि हर जिला खनन पदाधिकारी के कार्यालय में आरक्षी अधीक्षक और उपायुक्त सुनिष्चित करेंगे कि पुलिस बल की एक टीम हमेशा उपस्थित रहेंगे जो कभी भी अवैध खनन की सूचना मिलने पर छापेमारी कर संबंधित व्यक्ति पर कार्रवाई करेगी। अगले 15 दिनों के अन्दर पर्याप्त संख्या में घावा दल बनाकर सभी बालू घाटों का छापेमारी कराया जाय और कही भी अगर मषीनों का उपयोग हो रहा हो तो उन्हें जब्त किया जाय। अगर किसी घाट पर व्यवसायिक कारण से अवैध खनन हो रहा हो तो उसके भी मशीन का जब्त कर उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई की जाय। 

सभी धावा दल अवैध क्रसर की जांच करेगा तथा अवैध क्रसर को जब्त कर आगे की प्रक्रिया करते हुए उसकी निलामी भी करेगी या फिर कानूनी प्रक्रिया से जो चालु कराने के इच्छुक है वह चालू करा सकते हैं। किसी भी परिस्थति में अवैध क्रसर को चलने नहीं दिया जायेगा। कई क्रसर ऐसे भी हैं जो वैध है लेकिन उनके द्वारा अवैध पत्थर का क्रसिंग किया जाता है उनकी भी जांच चालान के माध्यम से की जायेगी। जिले के उपायुक्त को यह जिम्मेवारी दी गई है कि वे धावा दल का गठन करें। जिले के उपायुक्त तय करेंगे कि धावा दल में किन्हें रखा जायेगा।  

उन्होंने कहा कि अगर अवैध खनन में किसी भी खनन पदाधिकारी की संलिप्तता होगी तो उनपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जायेगी। पुलिस अधीक्षक को निदेष दिया गया है कि लोकल स्तर पर अगर किसी अवैध खनन की सूचना मिलती है तो अपने नेतृत्व में छापेमारी कर उक्त व्यक्ति के विरूद्ध तथा उनके साथ संलिप्त व्यक्तियों के विरूद्ध कार्रवाई करेंगे। इसके बाद भी अगर अवैध खनन की सूचना राज्य स्तर पर या माननीय मुख्यमंत्री को प्राप्त होती है तो उस परिस्थित में उपायुक्त एवं आरक्षी अधीक्षक की जिम्मेवारी तय की जायेगी।

उन्होंने कहा कि वन विभाग के जमीन पर अगर अवैध खनन किया गया तो फाॅरेस्ट एक्ट के तहत संबंधित व्यक्ति पर कार्रवाई की जायेगी तथा अवैध खनन में लगे मषीनों को जब्त कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि 100 नम्बर या जिला प्रषासन के नम्बर के साथ साथ अवैध खनन की सूचना 181 पर काॅल कर माननीय मुख्यमंत्री जी तक पहुंचा सकते हैं। माननीय मुख्यमंत्री जी खुद इसकी समीक्षा करेंगे। 

इससे पूर्व डीआरडीए सभागार में खनन सचिव ने संताल परगना के सभी छह जिलों के उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक के साथ अवैध खनन पर एक बैठक की तथा आवष्यक दिषानिर्देष भी दिये। बैठक के दौरान देवघर के जिला खनन पदाधिकारी बाबुलाल रजक को बिना किसी सूचना के मुख्यालय से अनुपस्थित पाये जाने पर निलम्बित किया गया।

उपायुक्त मुकेश कुमार द्वारा खनन सचिव सुनील कुमार वर्णवाल को मोमेंटो तथा दुमका जिला पर बने कॉफी टेबल बुक दिया गया।

****

(FJB)

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *