Home jharkhand अफवाह फैलाने वालों को चिन्हित कर उनपर दण्डात्मक कार्रवाई करना सुनिष्चित करे...

अफवाह फैलाने वालों को चिन्हित कर उनपर दण्डात्मक कार्रवाई करना सुनिष्चित करे – उपायुक्त राँची

17
0
SHARE

राॅची,11.07.2017 – उपायुक्त, राॅची की अध्यक्षता में राॅची समाहरणालय ब्लाॅक-ए के कमरा सं.-207 में विधि व्यवस्था से संबंधित बैठक आहुत की गई। बैठक में अपर जिला दण्डाधिकारी विधि व्यवस्था श्री गिरिजाशंकर प्रसाद द्वारा 12 जून 2017 को सभी थाना प्रभारी, अंचल अधिकारियों को कार्य करने एवं कृत कार्रवाई का प्रतिवेदन जिला को उपलब्ध कराने का निदेश दिया गया। उपायुक्त,राॅची ने उपस्थित पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि 14 जुलाई 2017 को माननीय मुख्यमंत्री द्वारा की जाने वाली बैठक से पूर्व हर थाना के संवेदनशील क्षेत्रों की सम्पूर्ण जानकारी यथा क्षेत्र का नाम, संवेदनशीलता का कारण मुख्य समस्याएॅ असामाजिक लोगो के बारे में विहित प्रपत्र में प्रतिवेदन एक दिन के अन्दर जिले को भेजना सुनिष्चित किया जाए। उपायुक्त द्वारा क्षेत्र में पशु-वध पर खास नजर रखने को कहा गया। बैठक में उपायुक्त ने कहा कि जो लोग जेल में बन्द है एवं जिनके रिहा होने पर शांति भंग होने की आशंका है उनके खिलाफ सीसीए की अनुशंसा भी थाना प्रभारी द्वारा की जानी चाहिए। उपायुक्त महोदय ने कहा कि खेती के समय में अंचल अधिकारी हर भूमि विवाद पर तत्काल जाॅच कर उसका प्रतिवेदन संबंधित थाना को उपलब्ध कराना सुनिष्चित करेगें ताकि कोई परेशानी न हो।

मोहल्लों-टोलो के स्तर पर छोटी-छोटी कमिटियों का गठन करते हुए समय समय पर स्थानीय लोगों से संवाद को सशक्त करना सुनिष्चित किया जाए। बैठक में उपस्थित वरीय पुलिस अधीक्षक,राॅची द्वारा उपस्थित पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों को निदेश दिया गया। अफवाह फैलाने वालों पर पशु-वध करने वाले लोगो को चिन्हित कर उनपर दण्डात्मक कार्रवाई करना सुनिष्चित करे। यह भी कहा गया कि अधिकांश थाना में लंबित वारंटो की संख्या अधिक है। वारंट का तामिला करवाकर उससे संबंधित प्रतिवेदन भी वरीय पदाधिकारियों को उपलब्ध कराया जाए। हर महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों की कमिटियों से सम्पर्क स्थापित कर सीसी टीवी कैमरा लगाने से धार्मिक सौहार्द कायम किया जा सकता है। एसएसपी द्वारा यह भी निर्देष दिया गया कि सांप्रदायिक हिंसा फैलाने वाले लोगो को चिन्हित कर उनके शस्त्र अनुज्ञप्तियों को रद्द करने भी तत्काल अनुषंसा थाना प्रभारी द्वारा करना सुनिष्चित करें। बैठक में अपर जिला दण्डाधिकारी विधि व्यवस्था द्वारा विस्तार से बताया गया कि हर पन्द्रह दिनों में अनुमण्डल स्तर पर एवं प्रत्येक माह के अंतिम सप्ताह में जिला स्तर पर विधि व्यवस्था से संबंधित समीक्षा बैठक का आयोजन होता है जिसमें संवेदनषील क्षेत्रों थाना की स्थिति, पुलिस बल की समस्या एवं आवष्यकताओं से संबंधित प्रतिवेदन उपलब्ध कराना सुनिष्चित करे। पुलिस बल को इतना सक्षम बनाया जाए ताकि हर परिस्थिति का सामना किया जाए। शांति व्यवस्था में सहयोग करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर केन्द्रीय शांति समिति में उनके शामिल किए जाने हेतु प्रतिवेदन की मांग की गई। बैठक में उपस्थित पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों को कहा गया कि भीड़ को किसी भी हाल में कानून को अपने हाथों में लेने का अधिकार नहीं है। बच्चा चोर या अन्य अफवाहो को फैलाने वाले लोगो पर त्वरित दण्डात्मक कार्रवाई करना सुनिष्चित किया जाए।
 बैठक में मुख्य रूप से ग्रामीण एसपी श्री राजकुमार लकड़ा, नगर अधीक्षक श्री अमन कुमार, एडीएम श्री गिरिजाशंकर प्रसाद, अनुमण्डल पदाधिकारी राॅची एवं बुण्डू के अलावे सभी सीओ, सभी डीएसपी एवं सभी संबंधित थाना प्रभारी उपस्थित थे।

****

(FJB)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here