Home aas_paas भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह कारगिल युद्ध में...

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह कारगिल युद्ध में शहीद देश के वीर जवान कैप्टन सौरभ कालिया के पिताजी डॉ एन के कालिया को शाल ओढ़ा कर और पुष्प-गुच्छ देकर सम्मानित किया

38
0
SHARE

*कांग्रेस पार्टी को केवल अपनी अगली पीढ़ी की चिंता है जबकि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को देश की अगली पीढ़ी की चिंता है  

*प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने देश में पॉलिटिक्स ऑफ़ परफॉरमेंस के एक नए युग की शुरुआत की है

*प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने लगभग 105 योजनाओं की शुरुआत की है और इनमें से एक भी योजना ऐसी नहीं है जो किसी एक वर्ग के लिए बनी हो। इन योजनाओं की प्लानिंग एक अद्भुत विकास के मॉडल पर की गई है जो सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशक है

*प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में आज भारतीय जनता पार्टी देश की राजनीति के अंदर फिर से शुचिता व पारदर्शिता को प्रतिस्थापित करने, देश के लोकतंत्र को मजबूत करने और देश का सर्व-स्पर्शी व सर्व-समावेशक विकास करने का काम कर रही है

*प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने हिमाचल प्रदेश के विकास के लिए कई काम किये हैं लेकिन यहाँ की कांग्रेस सरकार इन योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में नाकाम रही है क्योंकि विकास करने में उनकी कोई रुचि ही नहीं है

*हिमाचल प्रदेश में जिस प्रकार का भ्रष्टाचार है, जिस प्रकार का माफिया राज है, इससे यह स्पष्ट है कि हिमाचल की यह कांग्रेस सरकार प्रदेश का विकास नहीं कर सकती

*मैं एक ऐसी पार्टी का अध्यक्ष हूँ जिसके पास हजारों ऐसे कार्यकर्ता हैं जिनका कोई परिवार नहीं है, पार्टी के कार्यकर्ता ही उनके परिवार हैं। पार्टी की संगठन के विकास और राजनीतिक वैभव की यात्रा इन्हीं नेताओं के त्याग, तपस्या और बलिदान के कारण है

*किसी भी पार्टी का मूल्यांकन तीन प्रकार से हो सकता है – पार्टी का आतंरिक लोकतंत्र किस प्रकार से काम कर रहा है, पार्टी किस सिद्धांत पर चल रही है और जनादेश मिलने के बाद पार्टी जब सरकार में आती है, तो किस प्रकार से काम करती है

*1650 छोटी बड़ी पार्टियों में से सिर्फ भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके अंदर आतंरिक डेमोक्रेसी बची हुई है और जहां परफॉरमेंस के आधार पर कार्यकर्ताओं को मौके मिलते हैं

*आप यह नहीं बता सकते कि भारतीय जनता पार्टी का अगला अध्यक्ष कौन होगा लेकिन कांग्रेस का अगला अध्यक्ष कौन होगा, ये सब जानते हैं

*जिस पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र है, वही देश के लोकतंत्र की रक्षा कर सकती है, उसे मजबूत कर सकती है और देश के विकास में अपना योगदान दे सकती है

*सिद्धांत के आधार पर देश के विकास के लिए काम करने वाली यदि कोई पार्टी आज है, तो वह केवल और केवल भारतीय जनता पार्टी है

*जो पार्टी सिद्धांत के आधार पर नहीं चल सकती, उसका लक्ष्य कभी सही नहीं हो सकता और जिस पार्टी का लक्ष्य सही नहीं है, वह देश का कभी विकास नहीं कर सकती

*हम केवल देश का सर्वांगीण विकास ही नहीं सोचते बल्कि हम भारत को ‘विश्वगुरु’ के रूप में प्रतिष्ठित करना चाहते हैं और इसके लिए हम अथक परिश्रम कर रहे हैं

*माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी ने कारगिल युद्ध में शहीद देश के वीर जवान कैप्टन सौरभ कालिया के पिताजी डॉ एन के कालिया को शाल ओढ़ा कर और पुष्प-गुच्छ देकर सम्मानित किया

पालमपुर (हिमाचल प्रदेश) 04.05.2017 – भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने देश के सभी राज्यों के 95 दिवसीय विस्तृत प्रवास कार्यक्रम के तहत अपने दो दिवसीय हिमाचल प्रदेश के प्रवास के अंतिम दिन आज पालमपुर में प्रदेश के बुद्धिजीवियों के साथ कई विषयों पर चर्चा की और उनसे भारतीय जनता पार्टी के साथ मन से जुड़ने की अपील की। इसके पश्चात उन्होंने कारगिल युद्ध में शहीद देश के वीर जवान कैप्टन सौरभ कालिया के पिताजी डॉ एन के कालिया को शाल ओढ़ा कर और पुष्प-गुच्छ देकर सम्मानित किया।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि देवभूमि हिमाचल हमेशा से देश की आध्यात्मिक शक्तियों का केंद्र रहा है, यह दुनिया भर के प्रकृति प्रेमियों का गंतव्य स्थान रहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल महान वीरों की परंपरा का एक प्रमुख केंद्र है। उन्होंने कहा कि मेजर सोमनाथ शर्मा से लेकर कैप्टन सौरव कालिया तक इस पवित्र धरती के वीरों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए जो आत्म-बलिदान की उच्च परंपरा स्थापित की है, वह हमारे लिए गौरव और श्रद्धा का विषय है। उन्होंने कहा कि हम सब भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिए हिमाचल प्रदेश एक अन्य कारण से भी प्रिय है क्योंकि यह हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का प्रिय प्रदेश है, प्रधानमंत्री जी ने इसे बार-बार सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया है, उन्होंने लंबे समय तक प्रदेश में संगठन का काम किया है।

श्री शाह ने कहा कि 10 सदस्यों के साथ शुरू हुई भारतीय जनता पार्टी आज 11 करोड़ सदस्यों की संख्या के साथ दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। उन्होंने कहा कि एक ज़माना था जब किसी म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन में भी जन संघ को जीत मिलती थी तो वह अखबारों की सुर्खियाँ बनती थी, आज देश के विभिन्न राज्यों में हमारे 1387 विधायक हैं और 13 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें हैं, साथ ही 4 राज्यों में भाजपा एवं सहयोगी दलों की सरकारें हैं। उन्होंने कहा कि कभी देश की संसद के अंदर हमारे केवल दो सदस्य हुआ करते थे, आज संसद में हमारे लगभग सवा तीन सौ सांसद हैं और पूर्ण बहुमत के साथ प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार देश का मान-सम्मान बढ़ाने का काम कर रही है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जन संघ से भारतीय जनता पार्टी की संगठन के विकास और राजनीतिक वैभव की जो यात्रा है, वह हमारे महान नेताओं के त्याग, तपस्या और बलिदान के कारण है। उन्होंने कहा कि मैं एक ऐसी पार्टी का अध्यक्ष हूँ जिसके पास हजारों ऐसे कार्यकर्ता हैं जिनका कोई परिवार नहीं है, पार्टी के कार्यकर्ता ही उनके परिवार हैं। उन्होंने कहा कि हमारे जो भी नेता हुए हैं – डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी, श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी, श्री लालकृष्ण आडवाणी जी, श्री कुशाभाऊ ठाकरे जी, श्री सुन्दर सिंह भंडारी जी, राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी, नानाजी देशमुख जी, श्री कैलाशपति मिश्र जी, श्री मुरली मनोहर जोशी जी और न जाने कई अन्य मनीषी और उन्हीं के त्याग, तपस्या और पुरुषार्थ के कारण भारतीय जनता पार्टी को आज यह स्थान प्राप्त हुआ है जिन्होंने अपने जीवन का क्षण-क्षण और शरीर का कण-कण पार्टी और संगठन के लिए समर्पित कर दिया। उन्होंने कहा कि दूसरी ओर, पार्टी के सिद्धांत और पार्टी की कार्यपद्धति के कारण भी भारतीय जनता पार्टी की एक अलग प्रकार की छवि है। उन्होंने कहा कि राजनीति शास्त्र के विद्यार्थी के रूप में मेरा मानना है कि यदि किसी पार्टी का मूल्यांकन करना है तो उसका मूल्यांकन तीन प्रकार से हो सकता है – पहला, पार्टी का आतंरिक लोकतंत्र किस प्रकार से काम कर रहा है, दूसरा – पार्टी किस सिद्धांत पर चल रही है, और तीसरा – जनादेश मिलने के बाद पार्टी जब सरकार में आती है, तो किस प्रकार से काम करती है।

श्री शाह ने कहा कि हमारे संविधान निर्माताओं ने बहुत सोच समझ कर मल्टी पार्टी पार्लियामेंट्री डेमोक्रेटिक सिस्टम को स्वीकार किया था जिसमें अनेक पार्टियां काम करती है और जिस पार्टी को जनादेश मिलता है, वह देश में सरकार चलाती है। उन्होंने कहा कि प्रेसिडेंशियल सिस्टम में व्यक्ति की प्रतिभा, उसके कार्य करने की क्षमता और उसके अनुभाव निर्णायक होते हैं लेकिन बहुदलीय संसदीय लोकतंत्र प्रणाली में पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र, पार्टी के सिद्धांत और पार्टी के नेताओं के विचार महत्त्वपूर्ण होते हैं। उन्होंने कहा कि देश की जनता को इस दृष्टि से राजनीतिक पार्टियों का मूल्यांकन करने की शुरुआत करनी चाहिए और इसके आधार पर अपना मत देने का निर्णय लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि 1650 छोटी बड़ी पार्टियों में से सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसके अन्दर आतंरिक डेमोक्रेसी बची हुई है जहां हर तीन साल में बूथ से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष तक का चुनाव संविधान के अनुसार समयबद्ध तरीके से संपन्न होता है और परफॉरमेंस के आधार पर कार्यकर्ताओं को मौके मिलते हैं। उन्होंने कहा कि आप यह नहीं बता सकते कि भारतीय जनता पार्टी का अगला अध्यक्ष कौन होगा लेकिन कांग्रेस का अगला अध्यक्ष कौन होगा, ये सब जानते हैं, क्षेत्रीय दलों का अगला अध्यक्ष कौन होगा, सब जानते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी का आतंरिक लोकतंत्र ऐसा है कि बूथ पर काम करने वाला कार्यकर्ता भी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनता है और एक गरीब का बेटा देश का प्रधानमंत्री। उन्होंने कहा कि जिस पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र है, वही देश के लोकतंत्र की रक्षा कर सकती है, उसे मजबूत कर सकती है और देश के विकास में अपना योगदान दे सकती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को केवल अपनी अगली पीढ़ी की चिंता है जबकि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी को देश की अगली पीढ़ी की चिंता है, यही मूल अंतर है कांग्रेस पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में।

पार्टी के सिद्धांत पर विस्तार से चर्चा करते हुए माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि देश में सिद्धांतों के आधार पर चलने वाली पार्टियों का अकाल पड़ गया है। उन्होंने कहा कि एक बार फिर मैं दो प्रमुख पार्टियों भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी की चर्चा करना चाहूंगा। उन्होंने कहा कि पार्टी के सिद्धांत से मतलब है देश के लिए बनने वाली सभी नीतियों पर पार्टी के पास स्पष्ट दृष्टिकोण का उपलब्ध होना और उस दृष्टिकोण के आधार पर देश के लोकतांत्रिक प्रणाली के माध्यम से अपना पक्ष रखना। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हो या वामपंथी दल या फिर क्षेत्रीय पार्टियां – उनका कोई सिद्धांत ही नहीं है, उनके पास देश के लिए कोई आइडियोलॉजी ही नहीं है, कोई विचारधारा ही नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का गठन तो देश की आजादी को प्राप्त करने के लिए किया गया था, वह तो आजादी को प्राप्त करने के लिए एक स्पेशल पर्पस व्हेकिल भर थी, उसकी कोई विचारधारा ही नहीं थी, वह कभी सिद्धांतों के आधार पर चली ही नहीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में कई विचारधाराओं वाले लोग थे और उन सब के पास कोई सिद्धांत नहीं था, केवल किसी भी तरह से सत्ता प्राप्त करना ही उनका उद्देश्य था, इसलिए बाद में इससे कई पार्टियां अलग-अलग समय पर बाहर निकलती चली गई।

श्री शाह ने कहा कि जब डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी ने जन संघ की स्थापना की थी तो उससे पहले वे पंडित नेहरू जी की सर्वदलीय सरकार में उद्योग मंत्री थे। उन्होंने कहा कि नेहरू जी के नेतृत्व में जब देश की विकास नीति, कृषि नीति, विदेश नीति, अर्थ नीति, रक्षा नीति और शिक्षा नीति का निर्माण हो रहा था तब डॉ मुखर्जी सहित कई मनीषियों को लगा कि नेहरू सरकार देश के लिए जो नीतियाँ बना रही है, उन नीतियों के रास्ते पर यदि यह देश चलता रहा तो पीछे मुड़ने का भी रास्ता नहीं मिलेगा, तब उन लोगों ने एक ऐसी वैकल्पिक नीति को राष्ट्र के सामने रखने का साहस किया जिसमें देश की मिट्टी की सुगंध हो, उससे पाश्चात्य विचारों की बू न आती हो। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भारतीय जन संघ की विचारधारा में एक बड़ा मूल अंतर यह था कि कांग्रेस देश का नवनिर्माण करना चाहती थी जबकि भारतीय जन संघ देश की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत और गौरवशाली वैभव के आधार पर देश का पुनर्निर्माण करना चाहती थी। उन्होंने कहा कि देश के सामने वैकल्पिक विचारधारा प्रस्तुत करने के लिए ही डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी के नेतृत्व में भारतीय जन संघ की स्थापना हुई जो भारतीय जनता पार्टी के रूप में आज देश की जनता के सामने है। उन्होंने कहा कि सिद्धांत के आधार पर देश के विकास के लिए काम करने वाली यदि कोई पार्टी आज है, तो वह केवल और केवल भारतीय जनता पार्टी है। उन्होंने कहा कि जो पार्टी सिद्धांत के आधार पर नहीं चल सकती, उसका लक्ष्य कभी सही नहीं हो सकता और जिस पार्टी का लक्ष्य सही नहीं है, वह देश का कभी विकास नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ही एक मात्र ऐसी पार्टी है जो एक निश्चित सिद्धांत के आधार पर चलती है, जिसके पास देश के हर विषय, हर मुद्दे पर अपना दृष्टिकोण है और इसलिए भी हम सभी पार्टियों से अलग हैं।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि आजादी के बाद देश में 70 सालों तक जो सरकारें चली हैं उसमें से एक तो कांग्रेस की सरकार है जो लंबे समय तक केंद्र और राज्यों में रही हैं, कई राज्यों में कम्युनिस्ट पार्टियों की सरकारें भी रही हैं, कुछ समय तक केंद्र में और कई राज्यों में प्रादेशिक दलों की सरकारों ने भी शासन किया है और भारतीय जनता पार्टी की सरकार भी देश में केंद्र और राज्यों में चली हैं। उन्होंने कहा कि देश ने चारों प्रकार की सरकार देखी है – कांग्रेस की विचारधारा, कम्युनिस्ट की विचारधारा, परिवारवाद व जातिवाद की विचारधारा और भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा के आधार पर चलने वाली सरकारें देखी है। हिमाचल प्रदेश के प्रबुद्ध जनों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि अब देश में तुलनात्मक अभियान करने का समय आ गया है, चारों प्रकार के विकास के मॉडल देश की जनता के सामने है, उनके विकास के आंकड़े जनता के सामने उपलब्ध हैं – यह देखना चाहिए कि कांग्रेस की सरकारों में क्या विकास हुआ है, कम्युनिस्ट की राज्य सरकारों में कैसा विकास हुआ है, परिवारवाद व जातिवाद के आधार पर चलने वाली क्षेत्रीय पार्टियों की सरकारों के राज्य में कैसा विकास हुआ है और भारतीय जनता पार्टी की सरकारों में कैसा विकास हुआ है। उन्होंने कई राज्यों का उदाहरण देते हुए कहा कि किस तरह कांग्रेस सरकारों, कम्युनिस्ट दलों की सरकारों और क्षेत्रीय दलों की सरकारों ने राज्य के विकास को बाधित कर उसे काफी पीछे धकेल दिया। उन्होंने कहा कि जिन-जिन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें रहीं, वहां हमने विकास के नए मापदंड स्थापित किये और उस राज्य के इतिहास में डेवलपमेंट की नया अध्याय जोड़ा गया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने देश में पॉलिटिक्स ऑफ़ परफॉरमेंस के एक नए युग की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि जहां भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनती है, वह सरकार लोकाभिमुख सरकार होती है, पारदर्शी सरकार होती है, निर्णायक सरकार होती है और लोक-कल्याण के लिए काम करने वाली सरकार होती है।

श्री शाह ने कहा कि 2012 के समय को याद कीजिये, जब देश में कांग्रेस-नीत यूपीए का शासन था, देश के युवाओं में गुस्सा और आक्रोश था, महिलायें अपने-आप को असुरक्षित महसूस कर रही थी, आये दिन हमारी सीमाओं का अतिक्रमण होता रहता था, सेनाओं का अपमान होता था, हमारे प्रधानमंत्री विदेशी दौरों पर देश का पक्ष रखने जब जाते थे तो कहीं चर्चा भी नहीं होती थी, देश की अर्थव्यवस्था की हालत खस्ता थी, अर्थव्यवस्था के सारे मापदंड नीचे चले थे, नीतिगत फैसले नहीं हो रहे थे। उन्होंने कहा कि इस परिस्थिति में देश की जनता ने देश के बेहतर भविष्य के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में अपनी आस्था व्यक्ति करते हुए उनके हाथों में देश की बागडोर सौंपने का काम किया। उन्होंने कहा कि मई में हमारी सरकार के तीन वर्ष पूरे हो रहे हैं और 2014-2017 के इस सफ़र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश ने विकास की नई कहानी लिखी है, भारत दुनिया की सबसे तेज गति से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था बनी है, कांग्रेस की सोनिया-मनमोहन सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था की विकास दर को अटल जी के समय 8.4 से 4.4% पर लाकर छोड़ा, हम फिर से इन तीन सालों में विकास दर को 7.6% तक लाने में सफल हुए हैं और यह लगातार आगे की ओर बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक के जरिये आज हिन्दुस्तान ने दुनिया भर में यह संदेश दिया है कि अब हमारी सीमाओं की ओर कोई बुरी नजर से नहीं देख सकता। उन्होंने कहा कि इससे यह संदेश गया कि हम शांति तो चाहते हैं लेकिन सीमाओं पर अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि चाहे देश की विदेश नीति की बात हो या रक्षा नीति की या फिर आर्थिक मोर्चे पर लड़ाई की बात हो, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी ने हर मोर्चे पर सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किये हैं। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया भारत की ओर आशा भरी निगाहों से देख रही है, भारत से अच्छे रिश्ता बनाना चाहती है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने देश के विकास व गरीब-कल्याण के लिए लगभग 105 योजनाओं की शुरुआत की है और इनमें से एक भी योजना ऐसी नहीं है जो किसी एक वर्ग के लिए बनी हो। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं की प्लानिंग एक अद्भुत विकास के मॉडल पर किया गया है जो सर्व-स्पर्शी और सर्व-समावेशक है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार के इन तीन वर्षों में 104 उपग्रहों को एक साथ अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर भारत अंतरिक्ष के अंदर दुनिया की एक प्रमुख ताकत के रूप में उभरी है, मंगल पर हम काफी कम कीमत पर यान उतारने में सक्षम हुए हैं, 40 सालों से लंबित ‘वन रैंक, वन पेंशन’ को मोदी सरकार ने एक ही साल में क्रियान्वयित कर भूतपूर्व सैनिकों के खाते में इसका फायदा पहुंचाने का प्रबंध किया गया है, नोटबंदी के जरिये देश की अर्थव्यवस्था को पारदर्शी बनाने की पहल की गई है, उज्ज्वला योजना के माध्यम से देश के लगभग तीन करोड़ गरीब महिलाओं के घर में गैस सिलिंडर देने का काम किया गया है, सात करोड़ से अधिक शौचालय बना कर महिलाओं को सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया गया है और न जाने कितने विकास के काम हुए हैं, क्या 10 वर्ष पूर्व कोई इसकी कल्पना भी कर सकता था? उन्होंने कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी देश की राजनीति के अंदर फिर से शुचिता को प्रतिस्थापित करने, राजनीति में पारदर्शिता लाने और देश के लोकतंत्र को मजबूत करने और देश का सर्व-स्पर्शी व सर्व-समावेशक विकास करने का काम कर रही है।

श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने हिमाचल प्रदेश के विकास के लिए कई काम किये हैं। उन्होंने कहा कि 13वें वित्त आयोग में जहां सेन्ट्रल टैक्स में हिमाचल प्रदेश की हिस्सेदारी 11131 करोड़ रुपये थी, वहीं नीति आयोग के 14वें वित्त आयोग में हिमाचल की हिस्सेदारी करीब तीन गुणा बढ़ कर 28225 करोड़ रुपये हो गयी है, रेवेन्यू डेफिसिट ग्रांट को भी 7889 करोड़ रुपये से लगभग छः गुणा बढ़ा कर 40625 करोड़ रुपये कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में 25000 मेगावाट से ज्यादा हाइड्रो इलेक्ट्रिक पावर का उत्पादन करने की क्षमता वाले तीन प्रमुख परियोजनाओं की शुरुआत की गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में एम्स और आईआईएम भी दिए गए हैं लेकिन हिमाचल प्रदेश की कांग्रेस सरकार विकास की एक भी योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में नाकाम रही है क्योंकि हिमाचल सरकार की विकास करने में कोई रुचि ही नहीं है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में जिस प्रकार का भ्रष्टाचार है, जिस प्रकार का माफिया राज है, इससे यह स्पष्ट है कि हिमाचल की यह कांग्रेस सरकार प्रदेश का विकास नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य का विकास तभी हो सकता है जब राज्य सरकार के पास विकास का विजन हो लेकिन हिमाचल की कांग्रेस सरकार तो बस राजनीति करनी है, अपने स्वार्थ के लिए सरकार चलानी है तो ऐसे में विकास की आशा कैसे की जा सकती है।

माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में इस देश में विकास के एक नए युग की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि हम केवल देश का सर्वांगीण विकास ही नहीं सोचते बल्कि हम भारत को ‘विश्वगुरु’ के रूप में प्रतिष्ठित करना चाहते हैं और इसके लिए हम अथक परिश्रम कर रहे हैं। उन्होंने प्रबुद्ध जनों से निवेदन करते हुए कहा कि मैंने आप आप सबके सामने परफॉरमेंस, नीतियों एवं लोकतंत्र के पैमाने पर अपनी पार्टी का परिचय रखने का प्रयास किया है, मैं आप सब को मन से भारतीय जनता पार्टी के साथ जुड़ने की अपील करता हूँ और देश की इस विकास-यात्रा में जुड़ने का आह्वान करता हूँ।

****

(FJB)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here