सूर्य मंदिर –  यह मंदिर रांची से 40 किमी दूर रांची-टाटा मार्ग पर बुंडू के पास है

झारखण्ड की राजधानी राँची को प्रकृति ने अकूत प्राकृतिक सौन्दर्य से नवाजा है| राँची का मौसम ऐसे तो पूरे साल खुशनुमा बना रहता है, लेकिन बरसात के दिनों में इसकी खूबसूरती को चार चाँद लग जाते है| राँची आने के लिए देश के किसी भी कोने से यात्रा शुरू की जा सकती है| सड़क यात्रा के द्वारा भी राँची आसानी से पहुँचा जा सकता है| राँची हवाई मार्ग, रेल मार्ग तथा बस के द्वारा पूरे साल बड़ी आसानी से पहुँचा जा सकता है| यहाँ ठहरने के लिए कई तरह के होटल मिल जाएँगे जो सस्ते व महंगे दोनों है| यहाँ पर हम आपको राँची के सूर्य मंदिर की जानकारी दे रहे हैं

सूर्य मंदिर –  यह मंदिर रांची से 40 किमी दूर रांची-टाटा मार्ग पर बुंडू के पास है। यह देखने में किसी विशाल रथ की तरह है, जिसके दोनों तरफ 9-9 पहिए लगे हुए हैं। रथ के सात घोड़े बिल्कुल सजीव प्रतीत होते हैं और लगता कि जैसे अब दौड़ पड़ेंगे। मंदिर के परिवेश की बात करें तो यहां पर एक जलाशय  है,जो छठव्रतियों के लिए पवित्र स्थल का काम करता है। श्रद्धालूओं के लिए यहां एक धर्मशाला का भी निर्माण किया जा रहा है। मंदिर के पवित्र जलाशय में कई श्रद्धालू डुबकी लगाते हैं। उनका ऐसा मानना है कि इस जलाशय में नहाने से उनके सारे बुरे कर्म धुल जाते है । छठ पूजा के दौरान सूर्य की उपासना के लिए भी इस जलाशय का इस्तेमाल किया जाता है। श्रद्धालुओं के साथ-साथ स्थानीय लोगों के लिए भी यह मंदिर एक बेहतरीन पर्यटन स्थल है।

****

News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *