Home aas_paas नेपाल में सेना का मैत्री अभियान

नेपाल में सेना का मैत्री अभियान

59
0
SHARE

The Additional Principal Secretary, PMO, Dr. P.K. Mishra visited the Engineer Task Force work sites, in Kathmandu-finaljustice The Indian Army Engineers reconstructing school building, at Barpak,-finaljustice

भारतीय सेना नेपाल में वहां की सेना के साथ घनिष्‍ठ तालमेल और सहयोग से भूकंप से प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को सहायता उपलब्‍ध कराना जारी रखे हुए है।

अति उन्‍नत हेलीकॉप्‍टर पोखरा और काठमाण्‍डू में राहत कार्य के लिए लगाए गए हैं और उन्‍होंने 15 मई से 134 उड़ानें भरकर 9 लोगों को निकाला और 167 अन्‍य के लिए 43.2 टन राहत सामग्री ऐसे स्‍थानों तक पहुंचाई, जहां पहुंचना बहुत कठिन था।

भारतीय सेना के फील्‍ड अस्‍पताल और चिकित्‍सा दलों ने 15 मई से 220 मरीजों का उपचार किया और 36 ऑपरेशन किए, जिनमें से 21 मरीजों को दाखिल किया गया। चरीकोट से चिकित्‍सा दल सिंगाती भेजा गया है। ऐसा भारतीय सेना के चिकित्‍सा सहायता पहुंचाने के कार्यक्रम के अंतर्गत किया गया।

इंजीनियरिंग टास्‍क फोर्स गिरी हुई इमारतों के मलबे को हटाने के काम में लगा है और उसने 2380 घन मीटर मलबे को हटाते हुए 2055 मीटर मार्ग साफ किया है। इसके अलावा 40 क्षतिग्रस्‍त मकानों का मलबा भी हटाया गया। इंजीनियरों ने अत्‍यधिक नुकसान पहुंची छह आरसीसी दीवारों और छह मकानों को नियंत्रित तरीके से ढहाए जाने का कार्य किया। इसके अलावा 15 मई के बाद से 4 मकानों, छत पर एक आश्रय, दो तम्‍बू के आश्रय और दो अन्‍य आश्रयों का निर्माण किया।

पोखरा में कार्यबल कमाण्‍डर ब्रिगेडियर जे. गेमलिन ने नेपाल सेना के पश्चिमी डिविजन के कार्यवाहक जीओसी ब्रिगेडियर तारा बहादुर कार्की के साथ 19 मई को नेपाल के गोरखा जिले के लापराक और बारपाक क्षेत्र में हवाई और जमीनी सर्वेक्षण किया। उन्‍होंने गांववासियों और बारपाक गांव के पूर्व सैनिकों के साथ बातचीत की और सेना के इंजीनियर टास्‍क फोर्स ने लेफ्टिनेंट कर्नल निखिल संकरन की कमान के तहत बारपाक में स्‍कूल भवन के जारी पुनर्निर्माण के बारे में जानकारी दी।

सेना के एक एवरेस्‍ट अभियान को नामचे बाजार से हवाई और सड़क मार्ग से छोटे-छोटे समूहों में निकाल कर नई दिल्‍ली पहुंचाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here