Home छत्तीसगढ़ केन्द्रीय गृहमंत्री ने आजीविका कॉलेजों की परियोजना के लिए मुख्यमंत्री को दी...

केन्द्रीय गृहमंत्री ने आजीविका कॉलेजों की परियोजना के लिए मुख्यमंत्री को दी बधाई

52
0
SHARE
 श्री राजनाथ सिंह ने की ​सुकमा के आजीविका कॉलेज में युवाओं से मुलाकात
रायपुर, 31 मई 2015

केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने छत्तीसगढ़ के बेरोजगार युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई आजीविका कॉलेजों की परियोजना की तारीफ करते हुए इसके लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को बधाई दी है। आज दोपहर छत्तीसगढ़ के दक्षिण में अंतिम छोर के जिला मुख्यालय सुकमा का दौरा किया, जहां उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के साथ आजीविका (लाइवलीहुड) प्रशिक्षण कॉलेज में विभिन्न व्यवसायों का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे युवाओं से मुलाकात की। उन्होंने इन युवाओं को भी अपनी शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृहमंत्री से युवाओं का परिचय कराया और बताया कि इस कॉलेज में जिले के कम पढ़े-लिखे युवाओं को विभिन्न प्रकार के व्यवसायों में कौशल उन्नयन के लिए अल्पकालीन तथा रोजगार मूलक तकनीकी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। राज्य के सभी 27 जिला मुख्यालयों में आजीविका (लाइवलीहुड) कॉलेजों की स्थापना जा चुकी है। अब राज्य सरकार तहसील स्तर पर भी इनकी स्थापना के लिए प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृहमंत्री को बताया कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जिसने विधानसभा में कानून बनाकर अपने युवाओं को उनके मनपसंद व्यवसायों का प्रशिक्षण हासिल करने का अधिकार दिया है। इसके लिए छत्तीसगढ़ युवाओं के कौशल विकास का अधिकार अधिनियम 2013 लागू किया गया है।  केन्द्रीय गृहमंत्री ने कहा कि देश को बेरोजगारी के संकट से मुक्त करने और युवाओं को हुनरमंद बनाकर उनकी रचनात्मक ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र निर्माण में करने की दिशा में छत्तीसगढ़ सरकार की लाइवलीहुड कॉलेज परियोजना निश्चित रूप से काफी महत्वपूर्ण है। ऐसे अभिनव प्रयास देश के अन्य राज्यों में भी होने चाहिए। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ सरकार के गृहमंत्री श्री रामसेवक पैकरा, वन मंत्री श्री महेश गागड़ा, गृह विभाग के संसदीय सचिव श्री लाभचंद बाफना और प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड सहित जिले के अनेक जनप्रतिनिधि तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here